जागरण संवाददाता, गुरुग्राम: नगर निगम में फैले भ्रष्टाचार के खिलाफ निगम के ठेकेदार एकजुट हो गए हैं। सेक्टर-4 स्थित जिमखाना क्लब में ठेकेदारों ने बैठक की। ठेकेदारों का आरोप है कि कुछ नगर निगम अधिकारी, जनप्रतिनिधि और पार्षद फाइल व बिल पास करने की एवज में पैसे की डिमांड करते हैं। रिश्वत नहीं देने पर काम रुकवा दिया जाता है और बिल भी मंजूर नहीं होते हैं। इस संबंध में कुछ दिन पहले उपायुक्त एवं नगर निगम आयुक्त अमित खत्री को भी ठेकेदारों ने निगम में फैले भ्रष्टाचार की शिकायत दी थी।

ठेकेदारों ने पुरानी कार्यकारिणी को भंग कर नई कार्यकारिणी का गठन किया, जिसमें सर्वसम्मति से अनिल दहिया को प्रधान चुना गया। इस दौरान ठेकेदारों की समस्याओं के निपटान के लिए एक कमेटी का भी गठन किया गया। नई कार्यकारिणी में उपप्रधान ललित पराशर, मनीष भारद्वाज, मुख्य सचिव जोगिद्र कटारिया, सचिव, राजेंद्र खुराना, कोषाध्यक्ष रविद्र भारद्वाज, मीडिया प्रभारी सुनील गर्ग और बतौर कानूनी सलाहाकार अमित व मयूर अग्रवाल को शामिल किया गया है।

Posted By: Jagran

डाउनलोड करें जागरण एप और न्यूज़ जगत की सभी खबरों के साथ पायें जॉब अलर्ट, जोक्स, शायरी, रेडियो और अन्य सर्विस