संवाद सहयोगी, नया गुरुग्राम: एमजी रोड स्थित मारुति विहार कालोनी को नगर निगम को हैंडओवर करने के लिए मारुति विहार आरडब्ल्यूए की तरफ से हाउसिग बोर्ड के मुख्य प्रशासक को पत्र लिखकर जल्द से जल्द कालोनी नगर निगम गुरुग्राम को हैंडओवर करने की मांग की गई है। सरस्वती विहार कालोनी को 2015 में ही नगर निगम ने अपने अधीन ले लिया था जबकि मारुति विहार भी इसी लाइसेंस का हिस्सा था जो कि उस समय कागजों में हुइ गलती के चलते आधिकारिक तौर पर नगर निगम के अधीन आने से रह गई थी।

कालोनी आरडब्ल्यूए के प्रधान जेके शर्मा ने बताया कि उक्त मांग को लेकर स्थानीय नगर निगम आयुक्त, वार्ड के निगम पार्षद आरएस राठी को भी प्रति दी गई है। पत्र में कहा गया है कि सरस्वती विहार हाउसिग बोर्ड कालोनी का लाइसेंस लगभग 61 एकड़ में है और हाउसिग बोर्ड द्वारा यहां कालोनी विकसित की गई और इसी में से 23 एकड़ जमीन मारुति कर्मचारी सहकारी मकान निर्माण समिति को दे दी गई थी। जब 2015 में कालोनी को टेकओवर-हैंडओवर करने की प्रक्रिया शुरू की गई थी तब पूरी कालोनी का ही टेकओवर किया जाना था लेकिन कागजों में हुई गलती के चलते सरस्वती विहार तो आधिकारिक तौर पर निगम के अधीन हो गई लेकिन मारुति विहार कालोनी नहीं हो पाई। आरडब्ल्यूए के पास पर्याप्त फंड नहीं है जिससे कि विकास के कार्य हो सकें। ऐसे में अब मारुति विहार भी नगर निगम के अधीन आनी चाहिए ताकि यहां पर विकास कार्य हो सके।

निगम पार्षद आरएस राठी का कहना है कि कालोनी टेकओवर की प्रक्रिया के लिए वह पिछले चार माह से प्रयास कर रहे हैं और इसकी कागजी प्रक्रिया भी तेजी से चल रही है। प्रयास है कि जल्द से जल्द मारुति विहार कालोनी भी आधिकारिक तौर पर नगर निगम के अधीन होगी।

शॉर्ट मे जानें सभी बड़ी खबरें और पायें ई-पेपर,ऑडियो न्यूज़,और अन्य सर्विस, डाउनलोड जागरण ऐप

budget2021