जागरण संवाददाता, गुरुग्राम : साइबर सिटी के औद्योगिक क्षेत्रों में वर्षा जल निकासी का उचित प्रबंध नहीं होना बड़ी चिता का विषय बन गया है। उद्यमियों का कहना है कि बृहस्पतिवार को हुई वर्षा का पानी अभी भी सड़कों पर जमा है। महरौली रोड स्थित इंडस्ट्रियल डेवलपमेंट कालोनी (आइडीसी) में तो बहुत बुरा हाल है। यहां सड़क और उनके किनारे पर पानी जमा है। वहीं उद्योग विहार, नरसिंहपुर और सेक्टर-37 औद्योगिक क्षेत्र में भी स्थिति कुछ ठीक नहीं है। उद्यमियों का कहना है कि कम से कम जिन क्षेत्रों में सीवर लाइन के चोक होने की शिकायत मिल रही है वहां पर उनकी सफाई नगर निगम को करा ही देना चाहिए। ऐसा होगा तो कुछ राहत मिलेगी।

आइडीसी ऐसा औद्योगिक क्षेत्र है जहां पर समस्याओं का अंबार है। यहां सड़कों की हालत काफी जर्जर है। सड़कों के बीच में बड़े-बड़े गड्ढे बने हुए है। इसमें वर्षा का पानी भरने से यह राहगीरों के लिए बड़े संकट बन गए हैं। गुड़गांव इंडस्ट्रियल एसोसिएशन के अध्यक्ष जेएन मंगला का कहना है कि इन समस्याओं को दूर करने को लेकर निगमायुक्त ने आश्वासन दिया है। उम्मीद की जा रही है कि वर्षा जल निकासी को लेकर तीन से चार दिन के भीतर उचित प्रबंध कर दिए जाएंगे। ऐसा हो गया तो लगभग 300 औद्योगिक इकाइयों वाले इस क्षेत्र के लोगों को वर्षा के दौरान होने वाले जलभराव से बड़ी राहत मिल जाएगी। जीआइए अध्यक्ष ने यह भी कहा कि उन्हें उम्मीद है कि यह आश्वासन परवान जरूर चढ़ेगा।

उद्योग विहार के उद्यमियों ने कहा कि स्मार्ट पावर ग्रिड को लेकर बिजली की तारों को अंडरग्राउंड करने को लेकर जो खुदाई हुई है और उनको ठीक से नहीं भरा गया है, उससे बड़ी समस्या खड़ी हो गई है। इस ओर भी ध्यान देने की जरूरत है। उद्यमी हरीश शर्मा का कहना है कि कुछ अनियमित औद्योगिक क्षेत्रों में गलियां आज भी कच्ची हैं। वर्षा हुई तो यहां स्थिति काफी खराब हो सकती है।

Edited By: Jagran