जागरण संवाददाता, गुरुग्राम : साइबर सिटी में जाम की समस्या अब आम बात हो गई है। यहां हर व्यक्ति को रोजाना जाम में फंसने की आदत सी हो गई है, मगर औद्योगिक हब उद्योग विहार में यह समस्या दिनों दिन असहनीय होती जा रही है। यहां सुबह-शाम के पीक आवर में दिक्कत और बढ़ जाती है। यहां के औद्योगिक यूनिटों में काम करने वालों व उद्यमियों का कहना है कि इस क्षेत्र की सड़कों पर काफी अतिक्रमण है। यहां रेहड़ी-पटरी वालों के अतिक्रमण के साथ-साथ सड़कों के किनारे माल ढोने वाले वाहनों एवं कारों को खड़ा किया जाता है। जिस कारण यह समस्या और गहरा गई है।

उद्योग विहार गुरुग्राम का एक प्रमुख औद्योगिक हब है। यहां रोजाना तीन लाख से अधिक लोगों का आना-जाना रहता है। इन सभी को जाम से काफी दिक्कत होती है। उद्योग विहार फेज-4 स्थित एक औद्योगिक यूनिट में उप-प्रबंधक निर्मेश मोहन का कहना है कि उद्योग विहार में सुबह आना और शाम को यहां से जाना बड़ा ही मुसीबत भरा होता है। शंकर चौक से उद्योग विहार के सभी फेजों की आंतरिक सड़कों पर भारी जाम लग जाता है। पीक आवर में सौ या दो सौ मीटर अंदर से बाहर राष्ट्रीय राज्यमार्ग की सर्विस रोड पर आने 30 से 35 मिनट का समय लग जाता है। यह स्थित पिछले कई सालों से बनी हुई है। इसका अभी तक कोई ठोस समाधान नहीं हो सका है।

उद्यमी हरीश शर्मा का कहना है कि उद्योग विहार का जाम काफी परेशान करने वाला होता है। यहां से जब तक अतिक्रमण पूरी तरह से नहीं हटाया जाएगा तब तक जाम की समस्या का समाधान नहीं होगा। यहां पर पार्किग की काफी जरूरत है। इसके होने से लोगों को सड़कों के किनारे अपने वाहनों को नहीं खड़ा करना पड़ेगा। यहां मल्टीलेवल पार्किग की बात तो हो रही है मगर अभी तक धरातल पर कुछ दिखाई नहीं दे रहा है। पीक आवर का जाम दिनों दिन भयानक होता जा रहा है।

Posted By: Jagran