जागरण संवाददाता, गुरुग्राम : साइबर सिटी के सबसे बड़े और पुराने मार्केट सदर बाजार में एक बार फिर से अतिक्रमण होने लगा है। यह धीरे-धीरे बढ़ता भी जा रहा है। दुकानों के आगे छोटी दुकानें सजने लगी हैं। यह बाजार के अधिकतर व्यापारियों को रास नहीं आ रही है। उनका कहना है कि थोड़े से पैसों की लालच में कुछ कारोबारी इस प्रकार की गतिविधियों को बढ़ावा दे रहे हैं। यदि समय रहते इस पर नियंत्रण नहीं किया गया तो स्थिति बेहद खराब हो सकती है।

व्यापारियों का कहना है अगर बाजार में फिर से अतिक्रमण का पुराना दौर शुरू हुआ तो ग्राहक यहां से दूरी बना लेंगे, जो कि कारोबार की ²ष्टि से उचित नहीं है। सदर बाजार में विदेशी ग्राहकों की संख्या भी बढ़ती जा रही है। दुकानों के आगे दुकानें लगने से व पटरी बाजार सजने से यहां की सड़कें संकरी होती जा रही हैं।

बाजार की मुख्य सड़क के अतिक्रमण मुक्त होने के बाद एक छोर से दूसरी छोर तक आना-जाना आसान हो गया है। ऐसे में यहां फिर से अतिक्रमण हुआ तो स्थिति पहले जैसी हो जाएगी। इसलिए नगर निगम को समय-समय पर अतिक्रमण के खिलाफ बाजार में अभियान चलाते रहना चाहिए।

अतिक्रमण नहीं होने से ग्राहक आसानी से किसी भी दुकान में प्रवेश कर सकते हैं। इससे उन्हें खरीदारी में आसानी होती है। बाजार में जिनके शोरूम हैं, वे इस प्रकार के अतिक्रमण से अधिक असहज हैं। कारोबारी विजेंद्र का कहना है कि अतिक्रमण बाजार के लिए नासूर बन गया है। सराफा कारोबारी अमित ¨जदल का कहना है कि अतिक्रमण से सराफा कारोबारियों को सबसे अधिक परेशानी होती है। इस पर कार्रवाई होनी चाहिए।

Posted By: Jagran

अब खबरों के साथ पायें जॉब अलर्ट, जोक्स, शायरी, रेडियो और अन्य सर्विस, डाउनलोड करें जागरण एप