जागरण संवाददाता, गुरुग्राम : रोजगार मेरा अधिकार मुहिम के तहत रोजगार की मांग को लेकर प्रदेशभर के युवाओं ने बृहस्पतिवार को इंडियन नेशनल लोकदल (इनेलो) के झंडे तले सड़कों पर उतरकर विरोध प्रदर्शन किया। इस दौरान इनेलो वरिष्ठ नेता और सांसद दुष्यंत चौटाला के नेतृत्व में युवाओं ने प्रदर्शन किया और उपायुक्त को ज्ञापन दिया।

सरकार के खिलाफ विरोध प्रदर्शन में प्रदेशभर से युवा वर्ग बृहस्पतिवार को ताऊ देवीलाल स्टेडियम में एकत्रित हुआ था। सांसद दुष्यंत चौटाला ने यहां अपने संबोधन में कहा कि वह सरकार को ज्ञापन नहीं, बल्कि अल्टीमेटम देने आए हैं। रोजगार देने की दिशा में ठोस कदम उठाने के लिए सरकार के पास दो अक्टूबर तक का समय है और तब तक हम गांधीवादी हैं और इसके बाद वह शहीद भगत ¨सह के क्रांतिकारी राह पर चलने को मजबूर हो जाएंगे। दुष्यंत ने कहा कि प्रदेश के युवा सरकार से कोई खैरात नहीं मांग रहे हैं, बल्कि रोजगार हर युवा का अधिकार है और वह अपना अधिकार मांग रहे हैं। सरकारी विभागों में खाली पड़े पदों पर युवाओं को नियमित भर्ती करने और हरियाणा की जमीन पर स्थापित होने वाली निजी कंपनियों में प्रदेश के युवाओं के लिए 50 प्रतिशत नौकरियां आरक्षित करने करने सहित अन्य मांगें है। दुष्यंत चौटाला ने युवाओं को संबोधित करते हुए कहा कि मनोहर लाल खट्टर सरकार ने युवाओं को रोजगार के नाम पर धोखा दिया है। इनेलो सांसद ने कहा कि सरकार ने तो बेरोजगारों को 6 और 9 हजार रुपये बेरोजगारी भत्ता भी देने का वायदा किया था, परन्तु अब सरकार सक्षम योजना के तहत युवाओं से गोबर उठवा रही है। पिछले तीन वर्षों में सरकार ने आवेदनों के नाम पर करोड़ों रुपये से सरकारी खजाने को भर लिया, परन्तु एचपीएससी के माध्यम से रोजगार केवल 209 को मिला। इस मौके पर पार्टी राष्ट्रीय उपाध्यक्ष अनंतराम तंवर, सतीश राघव, पंडित योगेश हिलालपुरिया, किशोर यादव, ऋषिराज राणा, दलबीर धनखड़, नागेश तेवतिया, विनोद और बिरेंद्र शर्मा और बड़ी संख्या में कार्यकर्ता उपस्थित थे।

Posted By: Jagran