अनिल भारद्वाज, गुरुग्राम :

पिछले वर्ष 16 जनवरी को जब कोरोनारोधी टीकाकरण अभियान का आगाज हुआ था तो शहर में तरह -तरह की बातें सुनने में आ रही थी। अफवाहों में शुरुआत धीमी रही लेकिन आज एक वर्ष बाद स्वास्थ्य विभाग टीम ने अभियान को शिखर पर पहुंचा दिया। शुरुआत में कोई टीकाकरण के खिलाफ दिख रहा था तो कोई इसे जीवन रक्षक वैक्सीन बता रहा था। अगर इस दौरान किसी की अन्य बीमारी के कारण हुई मृत्यु हुई, तो कुछ लोगों ने मृत्यु का कारण कोरोनारोधी टीके को बताने की पूरी कोशिश भी की लेकिन गुरुग्राम की जनता ने जीवन रक्षक वैक्सीन पर भरोसा किया और झूठी अफवाहों को कामयाब नहीं होने दिया।

स्वास्थ्य विभाग के सामने भी बड़ी चुनौती थी जिसे विभाग टीम ने स्वीकार किया और देश के उन जिलों में शामिल हुए, जो टीकाकरण करने में बेस्ट रहे हैं। विभाग को 18 वर्ष से अधिक आयु के 18,03,655 लोगों का टीकाकरण करने के लिए लक्ष्य मिला था। टीकाकरण अभियान के नोडल अधिकारी डा. एमपी सिंह ने कहा कि पिछले वर्ष 16 जनवरी से वर्ष 15 जनवरी 2022 तक 43095 केंद्र बनाए गए और गुरुग्राम में एक वर्ष के अभियान में 46,30,120 टीके लगाए जा चुके हैं। जिस में 25,59,917 पहला और 20,57,920 दूसरा तथा 12,283 लोगों को सतर्कता डोज लगाया गया है।

----------

आयु - पहला - दूसरा टीका - सतर्कता डोज

15 से 17 वर्ष - 89623 - 00 - 000

18 से 44 वर्ष - 1776459 - 1429832 - 00

45 से 59 वर्ष - 387303 - 339174 - 00

60 वर्ष से ऊपर -306532 - 288914 - 5815

----------

स्वास्थ्य कर्मी - 44364 - 44590 - 4486

फ्रंटलाइन वर्कर्स - 46047 - 49640 - 1982

--------

शहरी क्षेत्र में - 590157 - 554103 - 1886

ग्रामीण क्षेत्र में - 1969760 - 1503817 - 10397

------------

महीना - पहला - दूसरा टीका - सतर्कता डोज

जनवरी - 16050 - 00 - 00

फरवरी - 11631 - 10724- 00

मार्च - 114905 - 16279 - 00

अप्रैल - 192672 - 59940 -00

मई - 240492 - 69048 -00

जून - 485797 - 78491 -00

जुलाई - 271209 - 181527 -00

अगस्त - 288814 - 278806 -00

सितंबर - 321793 - 392490 -00

अक्टूबर - 182696 - 291409 -00

नवंबर - 104382 - 215082 -00

दिसंबर - 128923 - 317764 - 00

जनवरी - 200553 - 146360 - 12,283

---------

सरकारी व प्राइवेट अस्पतालों में :::

- स्वास्थ्य विभाग के केंद्रों पर 1618162 पहला और 1571234 को दूसरा और 10243 को सतर्कता डोज लगाई गई।

- प्राइवेट अस्पतालों में 941755 पहला और 486686 को दूसरा और 2040 को सतर्कता डोज लगाई गई।

------

एक वर्ष में हमने 43095 केंद्र बनाकर टीकाकरण अभियान चलाया। शुरुआत में टीके को लेकर लोगों में भ्रम और अफवाह थी। हमारे सामने अभियान को कामयाब करना एक बड़ा चैलेंज था और लोगों में वैक्सीन के प्रति विश्वास जगना हमारा लक्ष्य था। खुशी की बात है कि लोगों ने अफवाहों पर ध्यान नहीं दिया और प्रधानमंत्री की बात पर विश्वास किया। सबसे पहले डाक्टरों व स्वास्थ्य कर्मी, आंगनबाडी, आशा वर्कर्स ने बड़ी संख्या में टीकाकरण कराकर लोगों में टीके के प्रति विश्वास जगाने का काम किया। इस कामयाबी पर मैं स्वास्थ्य विभाग के सभी कर्मी और जनता का आभार व्यक्त करता हूं।

--डा. विरेंद्र यादव, सिविल सर्जन।

(संबंधित खबर पेज दो पर)

Edited By: Jagran