जागरण संवाददाता, गुरुग्राम: 4 जनवरी से शहरों का स्वच्छता सर्वेक्षण शुरू हो जाएगा। गुरुग्राम शहर भी इस स्वच्छता की दौड़ में शामिल है। स्वच्छ सर्वेक्षण में एक माह भी नहीं बचा है और आधे-अधूरे इंतजामों के साथ स्वच्छ सर्वेक्षण में बेहतर रैंकिग की उम्मीद नहीं की जा सकती है। हरियाणा (एनसीआर जिलों) में गंदगी की शिकायतें सबसे ज्यादा गुरुग्राम में लंबित है। ऑनलाइन शिकायतों के लिए बनाए गए स्वच्छ मैप के आंकड़ों के मुताबिक गुरुग्राम में गंदगी की 138 शिकायतें लंबित हैं। शहर में जगह-जगह गंदगी के ढेर लगे हुए हैं। बता दें कि स्वच्छ मैप को एंड्रायड फोन में डाउनलोड कर इस पर गंदगी के स्थानों की फोटो अपलोड की जा सकती है। शहरों को स्वच्छ बनाने के लिए केंद्र सरकार की ओर से इस सुविधा की शुरुआत 2016 में की गई थी। -

एनसीआर के जिलों में ये है स्थिति

शहर गंदगी की पेंडिग शिकायतें गुरुग्राम 138

फरीदाबाद 5

रेवाड़ी 6

पलवल 6

सोनीपत 15

(6 दिसंबर को स्वच्छ मैप से लिए गए लाइव आंकड़े) -----

क्या है स्वच्छ मैप एप

-यह एप एंड्राइड और आइओएस पर आधारित है।

-किसी भी स्मार्ट फोन में इसे डाउनलोड किया जा सकता है।

-आप जिस शहर में हैं, उसी नगर निगम को सीधे एप के जरिए कचरे और गंदगी की शिकायत पहुंचेगी।

-कचरे की फोटो नागरिक एप पर अपलोड कर सकते हैं।

- स्वच्छ भारत मिशन के तहत शहरों को स्वच्छ बनाने के लिए इस एप को बनाया गया है।

- इको ग्रीन एनर्जी ने नहीं सुधारी स्थिति

लगभग ढाई साल से गुरुग्राम में इको ग्रीन एनर्जी कंपनी कचरा प्रबंधन का काम संभाले हुए हैं। लेकिन अभी तक सभी घरों से कूड़ा नहीं उठ रहा है। कचरा डंपिग प्वाइंट्स से नियमित रूप से कूड़े का उठान नहीं हो रहा है। नए और पुराने शहर में स्थिति बदतर हो चुकी है।

इंडियन टी20 लीग

डाउनलोड करें जागरण एप और न्यूज़ जगत की सभी खबरों के साथ पायें जॉब अलर्ट, जोक्स, शायरी, रेडियो और अन्य सर्विस