संवाद सहयोगी, सोहना (गुरुग्राम): देश के पूर्व राष्ट्रपति प्रणब मुखर्जी ने कहा कि स्मार्टग्राम परियोजना के तहत सुखी, शांतिपूर्ण तथा खुशहाल गांव विकसित करने हैं, जिसमें ग्रामीणों को जोड़ना जरूरी है। उन्होंने कहा स्मार्ट ग्राम परियोजना के तहत इन गांवों को गोद लेने का कार्य इसलिए किया है कि जिस प्रकार से शहरों में स्वास्थ्य देखभाल, शिक्षा, ढांचागत विकास जैसी सुविधाएं होती हैं, उसी प्रकार से गंावों में भी यही सुविधाएं मिल सकें ताकि गांव के लोग का भी जीवन स्तर ऊपर उठ सकें। इसी कड़ी में राष्ट्रपति भवन सचिवालय द्वारा शुरू में हरियाणा के पांच गांव गोद लिए थे। अब इस विकास का दायरा बढ़ाकर 5 से 100 गांवों तक कर दिया गया है। पूर्व राष्ट्रपति रविवार को गुरुग्राम में प्रणब मुखर्जी फाउंडेशन द्वारा गोद लिए गए गांव हरचंदपुर, अलीपुर और नया गांव में उपस्थित लोगों को संबोधित कर रहे थे।

रविवार इन तीनों गांवों में पूर्व राष्ट्रपति प्रणब मुखर्जी तथा हरियाणा के मुख्यमंत्री मनोहर लाल द्वारा गांव हरचंदपुर ग्रामालय भवन व स्मार्टग्राम पार्टनर प्रोसे¨सग सेंटर का उद्घाटन, गांव अलीपुर में टाउनिंग एवं इनोवेशन वेयर हाउस का उदघाटन तथा नया गांव में वाटर एटीएम का उदघाटन तथा स्मार्टग्राम हैप्पीनेस स्केयर का शिलान्यास किया गया। पूर्व राष्ट्रपति तथा मुख्यमंत्री ने इन गांवों में ग्रामीण संस्थानों का प्रयोग करके बने नव उद्यमियों तथा उन्हें प्रोत्साहित करने वाली संस्थाओं के प्रतिनिधियों को प्रशस्ति पत्र देकर सम्मानित किया। पूर्व राष्ट्रपति ने गांव अलीपुर में सेल्फी विद डॉटर ट्राफी लांच की और नया गांव में लाडो-राईट्स पुलिस का विमोचन किया। नया गांव में लाडो पुस्तकालय संचालन करने वाली कोमल तथा सोनम को भी प्रशस्ति पत्र देकर सम्मानित किया।

पूर्व राष्ट्रपति व मुख्यमंत्री गांव हरचंदपुर में खुले अत्याधुनिक सुविधाओं से लैस ग्राम सचिवालय का उद्घाटन किया। जिसमें वाई-फाई से लेकर कई तरह की डिजिटल सेवाएं मौजूद हैं। पूर्व राष्ट्रपति ने गांव की महिलाओं को खोआ बनाने वाली मशीन भी वितरित की। वहीं जिन लोगों ने गांव की तस्वीर बदलने में अग्रणी भूमिका निभाई तथा लोगों को रोजगार से जोड़ा उन्हें सम्मानित भी किया। ग्रामीणों ने एक सुर में कहा पूर्व राष्ट्रपति की पहल ने उनके गांव की तस्वीर बदल दी है।

इससे पूर्व मुख्यमंत्री मनोहर लाल ने कहा

भारत वर्ष गांव में बसता है और हमारी संस्कृति की पहचान गांव से होती है। उन्होंने कहा कि वो लोग विरले ही होते हैं जो गांव की सुध लेते हैं और उनमें पूर्व राष्ट्रपति प्रणब मुखर्जी ने राष्ट्रपति पद पर रहते हुए ग्रामीण विकास को दिशा दी। केंद्रीय राज्य मंत्री राव इंद्रजीत ¨सह ने भी प्रणब मुखर्जी फाउंडेशन द्वारा ग्राम विकास के लिए किए जा रहे कार्य की सराहना की।

Posted By: Jagran