जागरण संवाददाता, गुरुग्राम: जमीयत उलेमा-ए-हिद ने सोमवार को प्रवासी कामगारों के साथ ईद का त्यौहार मनाकर अमन का संदेश दिया। चाहे मुस्लिम हों, हिदू हों या किसी अन्य धर्म के लोग, सभी को एक ही तरह के व्यंजन (सब्जी, पूरी, खीर एवं मिठाई) खाने के लिए दिए गए। घर से निकलने के बाद बेघर हुए सैकड़ों प्रवासी कामगारों ने तालियां बजाकर इस पहल का स्वागत किया। व्यंजनों को वितरित करने के लिए पुलिस उपायुक्त (पश्चिमी) सुमेर सिंह यादव विशेष रूप से पहुंचे। इस कार्य में राष्ट्रीय स्वयंसेवक संघ के प्रचार विभाग में पत्रकार संपर्क प्रमुख विनोद कुमार के साथ ही जिला बार एसोसिएशन के पूर्व अध्यक्ष व वरिष्ठ अधिवक्ता कुलभूषण भारद्वाज ने भी सहयोग दिया।

श्रमिक स्पेशल ट्रेन के माध्यम से अपने गृह प्रदेश बिहार जाने के लिए 800 से अधिक कामगार सेक्टर-14 स्थित राजकीय महिला महाविद्यालय में ठहरे हुए हैं। किराये का मकान छोड़ने के साथ ही सभी बेघर हो गए थे। जिला प्रशासन ने सभी के लिए ठहरने की व्यवस्था महाविद्यालय में ही कर दी है। जिस दिन बिहार के लिए ट्रेन चलेगी, उस दिन उसमें सभी को बैठाया जाएगा। इन लोगों के लिए सामाजिक संगठन भोजन-पानी की व्यवस्था कर रहे हैं।

इसी दिशा में जमीयत उलेमा-ए-हिद ने ईद के मौके पर अपनी ओर से दोपहर के लंच की व्यवस्था की थी। सबसे पहले छोटे-छोटे बच्चों को लंच के पैकेट दिए गए। जमीयत उलेमा-ए-हिद के जिलाध्यक्ष मुफ्ती मोहम्मद सलीम ने कहा कि इस कार्य के लिए जैसे ही पुलिस आयुक्त मोहम्मद अकील से उन्होंने अनुमति मांगी, दे दी गई। उन्हें मोहम्मद अकील ने कहा कि ईद के मौके पर भला इससे बेहतर क्या संदेश दिया जा सकता है।

जिला बार एसोसिएशन के पूर्व अध्यक्ष कुलभूषण भारद्वाज ने कहा कि कोई भी त्यौहार अमन का संदेश देता है। महाविद्यालय में प्रशासन की ओर से नियुक्त ड्यूटी मजिस्ट्रेट सुशील कटारिया ने कहा कि प्रवासी श्रमिकों के साथ ईद मनाकर बहुत अच्छा संदेश दिया गया है। इस मौके पर जमीयत उलेमा-ए-हिद की ओर से सेवानिवृत डीआरओ खलील अहमद, इमरान कुरैशी, परवेज अंसारी, जमील अहमद, मोहम्मद समसुल, आसिफ इकबाल, तौफीक अहमद, जावेद खान, परवेज अंसारी, कामिल खान अब्दुल आदि उपस्थित थे।

Posted By: Jagran

डाउनलोड करें जागरण एप और न्यूज़ जगत की सभी खबरों के साथ पायें जॉब अलर्ट, जोक्स, शायरी, रेडियो और अन्य सर्विस