संवाद सहयोगी, फरुखनगर : खंड के गांव गढ़ी नत्थे खां में राष्ट्रीय पक्षी मोर के मरने का सिलसिला थमने का नाम नहीं ले रहा है। करंट लगने से करीब छह माह में 23 मोर मर चुके हैं। बचे मोरों को बचाने के लिए ग्रामीणों ने गांव से जा रहे ग्यारह हजार वाट के तारों को बदल कर केबल लगाने की मांग करते आए हैं। मगर सुनवाई नहीं हो रही है। बुधवार को एक और मोर की करंट से मौत हुई तो ग्रामीण उसे गोद में लेकर नायब तहसीलदार प्रदीप कुमार के पास पहुंचे। राष्ट्रीय पक्षी बचाव समिति हरियाणा के अध्यक्ष सुखबीर तंवर ने मुख्यमंत्री के नाम ज्ञापन सौंपा और चेतावनी दी की अगर उनके गांव में बिजली निगम द्वारा जल्द ही बिजली के तार नहीं बदले गए ग्रामीण भूख हड़ताल पर बैठ जाएंगे।

Posted By: Jagran