जागरण संवाददाता, गुरुग्राम: न्यायाधीश कृष्णकांत की पत्नी व बेटे की हत्या मामले में शनिवार को जिला एवं सत्र न्यायाधीश आरके सोंधी की अदालत में सुनवाई हुई। सुनवाई के दौरान तीन गवाहों के बयान दर्ज किए, जिन्होंने अपनी आंखों के सामने सबकुछ देखा, उनमें से एक ने गवाही दी। साथ ही जांच अधिकारी एवं फोरेंसिक लैब के एक कर्मचारी ने भी गवाही दी। अगली सुनवाई 10 अक्टूबर को होगी।

सरकारी अधिवक्ता व जिला उप न्यायवादी अनुराग हुड्डा ने बताया कि कुल 81 गवाहों में से अब तक 48 के बयान दर्ज किए जा चुके हैं। सुनवाई के दौरान 9 को गवाही देने वालों की सूची से बाहर कर दिया गया। इसके बाद 24 गवाह बच गए हैं। जल्द से जल्द गवाही पूरी हो जाए, इसका हरसंभव प्रयास किया जा रहा है। बता दें कि गत वर्ष 13 अक्टूबर को जिले के तत्कालीन अतिरिक्त जिला एवं सत्र न्यायाधीश रहे (वर्तमान में अंबाला में जिम्मेदारी) कृष्णकांत की पत्नी रितु (घर में लोग रेणु नाम से भी बुलाते थे) एवं उनके बड़े बेटे ध्रुव सेक्टर-49 स्थित आर्केडिया शॉपिग कॉम्प्लेक्स में गनमैन (अब बर्खास्त) महिपाल के साथ शॉपिग करने पहुंचे थे। कॉम्प्लेक्स से बाहर निकलने के कुछ ही मिनट बाद महिपाल ने पहले ध्रुव को और बाद में उनकी मां को गोली मार दी थी। इलाज के दौरान पहले मां ने, बाद में बेटे ने दम तोड़ दिया था।

Posted By: Jagran

अब खबरों के साथ पायें जॉब अलर्ट, जोक्स, शायरी, रेडियो और अन्य सर्विस, डाउनलोड करें जागरण एप