आदित्य राज, गुरुग्राम

भीषण गर्मी में कोई गरीब नंगे पांव न चले, पैर में छाले न पड़ें, इसका बीड़ा एमजी रोड पुलिस चौकी ने उठाया है। चौकी की प्रभारी सबइंस्पेक्टर मुकेश कुमारी व अन्य स्टाफ अपनी जेब से पैसे एकत्र करके चप्पल बांटते हैं। यह लोग अब तक 250 चप्पलें बांट चुके हैं।

वैश्विक महामारी कोरोना की वजह से लागू लॉकडाउन के बाद से शहर व आसपास के इलाकों में रहने वाले दूसरे प्रदेश के लोगों का अपने गृह प्रदेश जाने का सिलसिला जारी है। इनमें ऐसे लोगों की संख्या कम नहीं हैं जिनके पांव में चप्पल तक नहीं। छोटे-छोटे बच्चे भीषण गर्मी में नंगे पांव चलने को मजबूर हैं। इनके दर्द का अहसास करते हुए एक सप्ताह पहले सेक्टर-29 थाने से संबंधित एमजी रोड पुलिस चौकी प्रभारी मुकेश कुमारी सहित सभी स्टाफ ने निर्णय लिया कि वे चप्पल बांटेंगे। इसके बाद सभी ने अपनी जेब से पैसे जमा कराए।

पुलिसकर्मी पीसीआर वाहन में चप्पल रखकर चलते हैं। इफको चौक मेट्रो स्टेशन से लेकर सिकंदरपुर मेट्रो स्टेशन तक के इलाके में जहां भी कोई नंगे पांव दिख जाता है, उसे उसके साइज के हिसाब से चप्पल देते हैं। यदि कोई रिक्शा चालक भी नंगे पांव दिख जाता है, उसे भी चप्पल पहनाते हैं। सेवा भाव से लोग आश्चर्यचकित

पुलिसकर्मियों के सेवा भाव से इलाके के लोग आश्चर्यचकित हैं। डीएलएफ फेज-दो निवासी राजकुमार एवं नरेश पंवार ने बताया कि उन्होंने अपने जीवन में इससे पहले कभी भी पुलिसकर्मियों को इस तरह लोगों की सेवा करते नहीं देखा। पुलिसकर्मी खुद अपने हाथों से लोगों को चप्पल पहनाते हैं। इस कार्य की जितनी प्रशंसा की जाए वह कम है।

भीषण गर्मी में जमीन पर एक पल के लिए भी पैर नहीं रख सकते लेकिन काफी लोग ऐसे हैं जो नंगे पांव चलने को विवश हैं। उनके दर्द को कुछ हद तक बांटने का प्रयास एमजी रोड पुलिस चौकी ने शुरू किया है। खुशी है कि इस प्रयास में चौकी के सभी स्टाफ बढ़-चढ़कर अपनी भूमिका निभा रहे हैं।

सबइंस्पेक्टर मुकेश कुमारी, प्रभारी, एमजी रोड पुलिस चौकी

डाउनलोड करें जागरण एप और न्यूज़ जगत की सभी खबरों के साथ पायें जॉब अलर्ट, जोक्स, शायरी, रेडियो और अन्य सर्विस