जागरण संवाददाता, गुरुग्राम : शनिवार को कोरोना टीकाकरण अभियान का आगाज हुआ तो स्वास्थ्यकर्मियों से लेकर स्वास्थ्य विभाग के अधिकारियों ने टीका लगवाया। पहला टीका महिला स्वास्थ्यकर्मी राधा को दूसरा सिविल सर्जन डा. विरेंद्र यादव ने लगवाया। लोगों में किसी तरह का संशय ना रहे, इसको लेकर अधिकारी टीका लगवाने के लिए आगे आए। मेदांता मेडिसिटी के चेयरमैन व प्रबंध निदेशक डा. नरेश त्रेहन, वरिष्ठ फिजिशियन डा. सुशीला कटारिया ने भी टीका लगवाया।

-----

स्टाफ व जिले के लोगों को सूचना जानी चाहिए कि कोरोना वैक्सीन पूरी तरह से सुरक्षित है और इससे कोई खतरा नहीं है। जीवन रक्षक वैक्सीन से किसी तरह का खतरा नहीं है। मैंने टीका लगवा लिया है और किसी तरह की कोई परेशानी नहीं हुई।

डा. विरेंद्र यादव, सिविल सर्जन

----

मेरे लिए गर्व की बात है कि जिले में सबसे पहला टीका मुझे लगाया गया। मुझे किसी तरह की परेशानी नहीं हुई। मेरा यही कहना है कि लोगों को टीका लगवाने के लिए आगे आना चाहिए और कोरोना वायरस का खत्म करने में सहयोग करें।

राधा चौधरी, स्वास्थ्यकर्मी

------

कोरोना टीकाकरण अभियान की तैयारी के समय से सभी से मैं कहता रहा हूं कि टीका पूरी तरह से सुरक्षित है। आज मैंने स्वयं टीका लगवाया है ताकि स्टाफ व लोगों को विश्वास हो कि टीका सुरक्षित है।

डा. एमपी सिंह, नोडल अधिकारी टीकाकरण अभियान

----

टीका पूरी तरह से सुरक्षित है। इसे लगवाने में कोई दिक्कत नहीं है। टीका लगने के स्थान पर लाली होना या मामूली बुखार आना आम बात है। इसके लिए घबराने की आवश्यकता नहीं।

डा. नरेश त्रेहन, चेयरमैन व प्रबंध निदेशक मेदांता द मेडिसिटी

------

कोरोना टीका पूरी तरह से सुरक्षित हैं और जिनका टीका लगवाने का नंबर आता है, वह टीका जरूर लगवाए। मेरा यही कहना है कि टीका लगवाने के बाद भी दो गज की शारीरिक दूरी और मास्क लगाना ना भूलें।

डा. सुशीला कटारिया, वरिष्ठ फिजिशियन मेदांता द मेडिसिटी गुरुग्राम

Indian T20 League

शॉर्ट मे जानें सभी बड़ी खबरें और पायें ई-पेपर,ऑडियो न्यूज़,और अन्य सर्विस, डाउनलोड जागरण ऐप

kumbh-mela-2021