जागरण संवाददाता, गुरुग्राम: डोनेट ऑर्गन सेव लाइफ की तर्ज पर जिले में अभियान शुरू किया जा रहा है। इसके तहत जिलेवासियों की अंगदान संबंधी भ्रांतियों को दूर करने के साथ-साथ इसके प्रति प्रेरित किया जाएगा। इसके लिए जिला में कार्यरत स्वयंसेवी संस्थाओं, निजी अस्पतालों व स्वास्थ्य विभाग के वरिष्ठ अधिकारियों सहित विभिन्न संस्थाओं का सहयोग लिया जाएगा।

जिला प्रशासन के मुताबिक एक अध्ययन के अनुसार प्रदेश में लोगों की जिदगी बचाने के लिए हर साल 10 हजार ऑर्गन की जरूरत पड़ती है। उनकी जिदगी बचाने के लिए केवल पांच फीसद लोगों द्वारा ही अंगदान किया जाता है। मुख्यमंत्री मनोहर लाल इस अभियान को लेकर एक्शन मोड में हैं। इस अभियान की मॉनीटरिग मुख्यमंत्री कार्यालय द्वारा की जाएगी। उपायुक्त अमित खत्री के अनुसार इस अभियान के तहत लोगों की अंगदान को लेकर भ्रांतियों को दूर करने पर सबसे अधिक जोर दिया जा रहा है। इंफॉर्मेशन एजुकेशन एंड कम्यूनिकेशन प्लान लांच किया जाएगा।

उपायुक्त ने कहा कि अभियान को लेकर सभी प्रकार की तैयारियां की जा रही हैं। प्रदेश में लगभग 36 हजार लोग ऑर्गन ट्रांसप्लांट का इंतजार कर रहे हैं। प्रदेश में हर साल 1.8 लाख लोगों की सड़क हादसों में मृत्यु हो जाती है, जिनमें से 6000 लोग ब्रेन डेड होने के कारण मर जाते हैं। एक व्यक्ति के शरीर के अंगों से छह लोगों के जीवन को बचाया जा सकता है। प्रदेश में अंगदान का महत्व जन-जन तक पहुंचाने के उद्देश्य से प्रदेश के चार जिलों गुरुग्राम, फरीदाबाद, रोहतक व पंचकूला में इस परियोजना को पायलेट तौर पर शुरू किया जा रहा है। इन जिला में इसके सफल प्रयोग के बाद इन्हें अन्य जिलों में भी लागू किया जाएगा।

Posted By: Jagran

डाउनलोड करें जागरण एप और न्यूज़ जगत की सभी खबरों के साथ पायें जॉब अलर्ट, जोक्स, शायरी, रेडियो और अन्य सर्विस