संवाद सहयोगी, नया गुरुग्राम:

सोहना स्थित दमदमा रोड पर रिठौज गांव में तोड़-फोड़ के लिए पहुंची नगर आयोजनाकार विभाग की एन्फोर्समेंट टीम पर गांव वालों ने हमला बोल दिया। पहले तो लोगों ने एक तरफ की सड़क का रास्ता बंद कर दिया। जब टीम वापस जाने लगी तो दूसरी तरफ का रास्ता रोकने का भी प्रयास किया लेकिन जैसे-तैसे टीम के सदस्य अपनी गाड़ियों से वहां से बचकर निकले लेकिन इस बीच गाड़ी में बैठते हुए एक सदस्य के साथ मारपीट भी की।

बता दें कि शनिवार को जिला नगर योजनाकार (डीटीपीई)के नेतृत्व में एन्फोर्समेंट टीम अवैध निर्माणों को तोड़ने के लिए रिठौज गांव में पहुंची थी जहां पहुंचते ही 100 से अधिक लोग एकत्र हो गए और गरीबों के मकानों के सहारे तोड़-फोड़ के खिलाफ हंगामा करने लगे। जबकि टीम अवैध कालोनी काटने वाले प्रापर्टी डीलरों के कार्यालय, अवैध ढाबे और भवन सामग्री की दुकानों को तोड़ने के लिए गई थी। पुलिस बल कम होने के कारण टीम पर हमला हुआ तो अपनी जान बचाने के लिए अधिकारी अपनी गाड़ियों में बैठ जैसे-तैसे वहां से निकले लेकिन कुछ ही घंटों के भीतर पुलिस आयुक्त की मदद से 100 से अधिक पुलिस बल लेकर तोड़-फोड़ टीम फिर मौके पर पहुंची। डीटीपीई आरएस बाठ के नेतृत्व में टीम ने अवैध ढाबे, नये पुराने प्रापर्टी डीलर कार्यालय और भवन सामग्री की सभी दुकानों पर पीला पंजा चला दिया। इस बीच उपस्थित लोगों ने तोड़-फोड़ रुकवाने के लिए कई जगह फोन घुमाए लेकिन लगातार दो घंटे चली कार्रवाई के दौरान अवैध निर्माण गिरा दिए गए।

डीटीपीई बाठ का कहना है कि हमला करने वाले सभी लोगों को चिन्हित कर लिया गया है। सभी के खिलाफ मामला दर्ज करवाया जाएगा। हालांकि इस हरकत के लिए आस-पास के आधा दर्जन से अधिक गांवों के एकत्र हुए पूर्व सरपंचों ने नाराजगी जता कृत्य को गलत बताया।

Edited By: Jagran