जागरण संवाददाता, गुरुग्राम: स्वच्छ भारत मिशन के तहत स्वच्छ सर्वेक्षण-2022 की तैयारियां नगर निगम, गुरुग्राम द्वारा तेज कर दी गई हैं। इसके अंतर्गत शुक्रवार को निगमायुक्त मुकेश कुमार आहुजा के सिविल लाइंस स्थित निवास से होम कंपोस्टिग योजना की शुरुआत की गई है। निगमायुक्त ने इस मौके पर होम कंपोस्टिग प्रक्रिया के बारे में विशेषज्ञों से जानकारी प्राप्त की। उन्होंने संयुक्त आयुक्त (स्वच्छ भारत मिशन) हरीओम अत्री को निर्देश दिया कि नगर निगम, गुरुग्राम के सभी अधिकारियों के घरों में होम कंपोस्टिग यूनिट की स्थापना की जाए। ई-स्वच्छ के प्रतिनिधि गौरव वाही द्वारा निगमायुक्त निवास के कर्मचारियों को होम कंपोस्टिग का प्रशिक्षण भी दिया गया।

मुकेश कुमार आहुजा ने शहरवासियों से भी अपील किया है कि वे होम कंपोस्टिग को अपनाएं तथा जिले को स्वच्छ और कचरा मुक्त बनाने में अपना सहयोग दें। उन्होंने कहा कि घरों में गीला, सूखा तथा घरेलू हानिकारक कचरा अलग-अलग रखें। गीले कचरे से होम कंपोस्टिग करें व उससे बनने वाली खाद का उपयोग पौधों के लिए करें। इससे एक ओर जहां कचरा कम होगा, वहीं दूसरी ओर हरियाली को भी बढ़ावा मिलेगा। पर्यावरण भी शुद्ध होगा।

निगमायुक्त ने कहा कि केंद्रीय आवासन एवं शहरी मामलों के मंत्रालय द्वारा स्वच्छ सर्वेक्षण-2022 की घोषणा कर दी गई है। उन्होंने लोगों से अपील किया कि हमें अपने कचरे को अलग-अलग करने, होम कंपोस्टिग को अपनाने, पालीथिन तथा सिगल यूज प्लास्टिक का इस्तेमाल बंद करने को कहा है। यदि ऐसा होगा तो हम गुरुग्राम को स्वच्छता की रैंकिग में बेहतर बना सकते हैं। इसे लेकर नगर निगम द्वारा सभी एजेंसियों को भी दिशा-निर्देश दिए गए हैं।

Edited By: Jagran