जागरण संवाददाता, गुरुग्राम : कोरोना महामारी से निजात नहीं मिल रही है और अब डेंगू-मलेरिया मच्छर का खतरा मंडराने लगा है। डेंगू मरीजों की संख्या बढ़ रही है। पिछले दस दिनों में करीब दस मरीज मिले हैं। फिलहाल जिले में डेंगू मरीजों की संख्या 13 हो चुकी है और दो मलेरिया मरीज मिले हैं।

एक बार डेंगू मरीजों का मिलना शुरू हुआ है तो यह संख्या तेजी से बढ़ेगी। कोरोना की तीसरी लहर का खतरा भी अभी बरकरार है, तो वहीं डेंगू का खतरा भी बढ़ रहा है। सितंबर और अक्टूबर में डेंगू मरीजों की संख्या आमतौर पर अधिक हो जाती है। अभी तक इस सीजन में मिले मरीज ठीक हो चुके हैं।

बारिश के मौसम में बीमारियों पर नियंत्रण रखने के आदेश : स्वास्थ्य विभाग को राष्ट्रीय रोग नियंत्रण केंद्र स्वास्थ्य सेवा महानिदेशालय की तरफ से बारिश में फैलने वाली बीमारियों के प्रति सावधानी रखने के आदेश दिए गए हैं। गुरुग्राम लाखों की जनसंख्या वाला शहर है और यहां पर बारिश के मौसम में बीमारियां फैलने का खतरा रहता है। कहा गया है कि बारिश के मौसम में वायरल- बुखार, डेंगू, मलेरिया, टाइफाइड, चिकनगुनिया, आई-फ्लू, चर्म रोग और अन्य बीमारियों पर ध्यान रखा जाए, ताकि यह लोगों में फैल न सके। मानसून में बहुत बीमारी फैलने का डर रहता है।

सिविल सर्जन डा. विरेंद्र यादव का कहना है कि दो माह से ही टीमों को घर-घर जांच व लोगों को जागरूक करने पर लगाया हुआ है। जिले में अभी तक डेंगू, मलेरिया या बुखार बड़े स्तर पर नहीं फैला है। लोग बीमारियों को लेकर सचेत हैं। हल्का बुखार होने के बाद तुरंत डाक्टर को दिखा रहे हैं। जिले में डेंगू के 13 मरीज मिले हैं, लेकिन स्थिति नियंत्रण में है। उन्होंने लोगों से अपील की है कि घरों में डेंगू लार्वा न पनपने दें। इसके लिए सभी ध्यान रखे। उन्होंने कहा कि डेंगू व बुखार से ग्रस्त मरीजों को इलाज देने की सभी तैयारी है। मरीजों को भर्ती करने से लेकर प्लेटलेट्स उपलब्ध चढ़ाने की सुविधा भी उपलब्ध है। वर्षवार मलेरिया की स्थिति

2010 - 137

2011 - 544

2012 - 599

2013 - 212

2014 - 80

2015 -67

2016 - 38

2017 - 56

2018 - 78

2019 - 56

2020 - 14 वर्ष डेंगू मरीज मौत

2011 160 सात

2012 145 नौ

2013 205 12

2014 186 11

2015 451 एक

2016 471 एक

2017 66 0

2018 93 एक

2019 21 0

2020 54 0 वर्जन

डेंगू मच्छर को पैदा होने से रोकने के लिए हर किसी को सहयोग देना होगा। घरों में डेंगू मच्छर पैदा होता है तो मरीज बढ़ते हैं। नगर निगम की ओर से शहर में डेंगू मच्छर मारने के लिए कीटनाशक रसायन का छिड़़काव किया जा रहा है। उसके बाद भी सभी ने अपने घर में ध्यान देना होगा, ताकि डेंगू लार्वा नहीं पैदा हो।

-डा. विरेंद्र यादव, सिविल सर्जन

Edited By: Jagran