जागरण संवाददाता, गुरुग्राम : भूटान अपने यहां औद्योगिक निवेश को आकर्षित करने का लगातार प्रयास कर रहा है। निवेश को लेकर भूटान के आर्थिक मामलों के मंत्री लोकनाथ शर्मा व फेडरेशन आफ इंडियन इंडस्ट्री (एफआइआइ) के बीच वर्चुअल बैठक हुई। इस मौके पर भूटान के मंत्री ने एफआइआइ से संबंधित उद्यमियों को अपने यहां निवेश का आमंत्रण दिया। कहा कि उन्हें वहां सभी प्रकार की सुविधाएं दी जाएंगी। उन्होंने बैठक में विस्तार से भूटान के औद्योगिक माहौल, अवसरों और सरकार की योजनाओं के बारे में बताया।

बैठक की शुरुआत एफआइआइ के महानिदेशक दीपक जैन ने की। उन्होंने भारत और भूटान साझे सामाजिक, सांस्कृतिक और आर्थिक परिवेश पर प्रकाश डाला। उन्होंने कहा कि दोनों देशों की सांस्कृतिक व सामाजिक विरासत एक जैसी है। दीपक जैन ने कहा कि भूटान के उद्यमियों को भारत के साथ घनिष्ठ समन्वय से काम करते हुए वर्तमान आर्थिक परिदृश्य में सकारात्मक बदलाव लाने का प्रयास करना चाहिए। कारपोरेट इनसाल्वेंसी एवं री-स्ट्रक्चरिग कमेटी के अध्यक्ष संजय गुप्ता ने निवेश के विभिन्न क्षेत्रों की जानकारी दी। भूटान के प्रतिनिधि ताशी दोरजी ने अपने देश में व्यापार के अवसरों के बारे में विस्तार से जानकारी दी। उन्होंने बताया कि भूटान में पर्यटन के अलावा मसालों के क्षेत्र में निवेश किया जा सकता है। प्राकृतिक खनिज और पर्यावरण के अनुकूल नवीकरणीय ऊर्जा से संबंधित संसाधनों के क्षेत्र में भी निवेश कर लाभ उठाया जा सकता है।

लोकनाथ शर्मा ने गणपति उत्सव और आगामी दुर्गा पूजा की बधाई दी। उन्होंने कहा कि दोनों देशों के परस्पर मजबूत सांस्कृतिक संबंधों का हवाला देते हुए कहा कि दोनों देश एक-दूसरे के साथ बेहतर ढंग से सहयोग कर सकते हैं। कृषि, ऊर्जा और स्टार्टअप के क्षेत्र में निवेश के भरपूर अवसर भूटान में हैं। उन्होंने कहा कि भूटान आइटी और डिजिटल क्षेत्रों में नवाचार व रचनात्मकता के लिए भी तैयार है।

Edited By: Jagran