मोदी सरकार - 2.0 के 100 दिन

जागरण संवाददाता, गुरुग्राम: सेक्टर पांच स्थित चितपूर्णी मंदिर स्थित मैदान आयोजित श्रीमद्भागवत कथा के दौरान कथा व्यास पं. मनमोहन ब्रजवासी ने कहा कि भागवत में गीता, रामायण और सभी हिदू ग्रंथों का सार है। यह एक महान ग्रंथ है। इसके नियमित पठन और श्रवण से मनुष्य योनि में जाने और अनजाने में किए सभी पाप नष्ट हो जाते हैं। पं. मनमोहन ब्रजवासी ने मंगलवार की शाम परीक्षित चरित्र और शुकदेव जन्म की कथा सुनाई। उन्होंने बताया कि अपनी मृत्यु का पूर्व ज्ञान होने पर राजा परीक्षित ने कैसे- कैसे ऋषि मुनियों से ज्ञान प्राप्त किया।

कार्यक्रम के मीडिया प्रभारी विजय अग्रवाल ने बताया कि यह कथा नारायण सेवा संस्थान की सहायता के उद्देश्य से आयोजित किया गया है। इसके संस्थापक कैलाश मानव हैं। यह संस्था वर्षों से पोलियो ग्रस्त बच्चों के नि:शुल्क ऑपरेशन करवा रही है और समाज के रोगी, विधवा, वृद्धा और अभाव ग्रस्त लोगों की सेवा भी कर रही है। मंगलवार को भागवत कथा के मुख्य यजमान समाजसेवी महावीर सिंह और उनक पत्नी सुलोचना थे। कथा में आरजी अग्रवाल, उमा शंकर भारद्वाज, रमेश सिगला, राज कुमार मित्तल, हरवंश जौली, अजय मंगला, कंचन गोयल, रेखा मित्तल, बबिता और संतोष यादव उपस्थित थे।

Posted By: Jagran

अब खबरों के साथ पायें जॉब अलर्ट, जोक्स, शायरी, रेडियो और अन्य सर्विस, डाउनलोड करें जागरण एप