जागरण संवाददाता, गुड़गांव : अखिल भारतीय मुस्लिम गौ पालक सम्मेलन 13 सितंबर को मेवात के फिरोजपुर झिरका में आयोजित किया जा रहा है। गोकशी के लिए कुख्यात मेवात में भाजपा सरकार द्वारा यह सम्मेलन मुस्लिम राष्ट्रीय मंच के गोरक्षा प्रकोष्ठ द्वारा आयोजित कराया जा रहा है। इस सम्मेलन में देश भर के लगभग 15 हजार मुस्लिम गोपालक हिस्सा लेंगे। कार्यक्रम में गोपालन में बेहतर काम के लिए महिला पुरुष गोपालकों को हरियाणा के मुख्यमंत्री मनोहर लाल खट्टर सम्मानित करेंगे।

गुरुवार को पीडब्ल्यूडी रेस्ट हाउस में आयोजित प्रेसवार्ता में यह जानकारी मुस्लिम राष्ट्रीय मंच के राष्ट्रीय संगठन संयोजक गिरीश जुयाल ने दी। उन्होंने कहा कि इस तरह का यह पहला सम्मेलन है। इसका उद्देश्य देश को यह बताना है कि मुसलमान भाई भी गायों को पालते हैं। मेवात का नाम अकसर नकारात्मक बातों को लेकर जाना जाता है। 18 संगठनों ने देश के विभिन्न प्रदेशों में आत्महत्या करने वाले किसानों के सर्वे में पाया है कि उन किसानों ने आत्महत्या नहीं की जो गाय पालते थे। कार्यक्रम के माध्यम से गोपालन के आधुनिक व्यवसायिक महत्व से भी किसानों को परिचित कराना है।

इस कार्यक्रम में विभिन्न इस्लामी धर्म गुरुओं के गोपालन के संबंध में विचार भी दिखाएं जाएंगे। कार्यक्रम के आमंत्रण के लिए बनाए गए पंफलेट में पैगम्बर हजरत मुहम्मद सल्ल की पंक्तियों का जिक्र किया गया है। जिसमें लिखा है कि गाय के दूध में शिफा है, इसका मक्खन मुफीद है, अलबत्ता इसका गोश्त बीमारी है।

कार्यक्रम में मंच के हरियाणा संयोजन खुर्शीद राजाका ने कहा कि इस कार्यक्रम में गायों को लेकर दो दिवसीय प्रदर्शनी लगेगी जिसमें गो उत्पादों के व्यवसायिक महत्व, जैविक खेती आदि से संबंधित प्रदर्शनी लगाई जाएगी। मंच के राष्ट्रीय सह संयोजक इमरान चौधरी ने कहा कि मेवात के मुसलमान किसान भी गायों को पालते हैं। गोधन से आजीविका चलाते हैं। गाय की देख भाल वे वैसे ही करते हैं, जैसे हिंदू किसान। यह बात इस सम्मेलन से लोगों के सामने आएगी। कार्यक्रम को प्रदेश भाजपा के मनीष यादव ने भी संबोधित किया।

अब खबरों के साथ पायें जॉब अलर्ट, जोक्स, शायरी, रेडियो और अन्य सर्विस, डाउनलोड करें जागरण एप