संवाद सूत्र, जाखल :

शिवालिक की पहाडियों में हो रही भारी बरसात से सभी नदियां उफान पर चल रही है। वही अब इसी के बीच फतेहाबाद जिले से होकर गुजरने वाली घग्घर नदी भी पिछले दिनों पूरे उफान पर चल रही थी।

शनिवार को सिचाई विभाग द्वारा दर्ज की गई रिपोर्ट के मुताबिक चांदपुरा साइफन पर 137000 क्यूसेक पानी दर्ज किया गया था। रविवार को सिचाई विभाग द्वारा दर्ज की गई रिपोर्ट मुताबिक नदी का जलस्तर 750 क्यूसेक नीचे आ गया है। वही इसे लेकर आसपास के किसानों ने राहत की सांस ली है। वही नदी के घट बढ़ रहे जलस्तर को लेकर प्रशासन ने पूरी निगाहें बनाई हुई हैं। हरियाणा-पंजाब की सीमा से होकर गुजर रही इस घग्घर नदी में अक्सर बाढ़ के कारण आसपास के गांवों के लोगों को काफी दिक्कतें आती है। पहाड़ी क्षेत्रों में रुक रुक कर हो रही भारी बरसात के चलते दो तीन बार घग्घर नदी का जलस्तर बढ़ गया है। बता दे कि शनिवार को जलस्तर 13 हजार क्यूसेक से अधिक पहुंचने पर किसानों के माथे पर चिता की लकीरें दिखने लगी थी। लेकिन राहत की बात यह है कि शनिवार की उपेक्षा रविवार को घग्घर नदी का जलस्तर कम हुआ है। चांदपुरा साइफन पर 18 हजार क्यूसिक से अधिक पानी पहुंचने पर खतरा मंडराने लग जाता है। जिससे अभी जलस्तर काफी दूर है।

-----------------------------------

आंकड़ों से समझें स्थिति

वीरवार 18100 क्यूसिक

शुक्रवार 1110000 क्यूसिक

शनिवार 1370000 क्यूसिक

रविवार शाम तक 12950 क्यूसेक जलस्तर दर्ज किया गया है।

--------------------------- हरियाणा पंजाब सहित अन्य जगहों पर भारी बरसात होने से घग्घर नदी का जलस्तर बढ़ गया था। पानी का स्तर धीरे धीरे कम हो रहा है। जिला प्रशासन के निर्देश अनुसार समय समय पर इसका निरक्षण कर स्थिति का ज्याजा लिया जा रहा है। अभी बाढ़ जैसी कोई स्थिति नहीं है।

रामचन्द्र अहलावत नायब तहसीलदार जाखल।

Edited By: Jagran