फोटो : 28 व 29

संवाद सूत्र, भूना : पिछले एक सप्ताह से गांव बुवान में जिला प्रशासन ने डेरा डाला हुआ है। दरअसल गांव की पंचायत घर में भीमराव आंबेडकर की प्रतिमा लगाने को लेकर विवाद हो गया था। विवाद इतना अधिक बढ़ गया कि गांव के दोनों समाज के लोग आपने सामने हो गए थे। यहीं कारण है कि जिला प्रशासन ने आरएएफ की दो व सीआरपीएफ की चार कंपनियां लगा रखी है। वहीं अनेक संख्या में पुलिस कर्मचारी तैनात है। हर दिन डीसी, एसपी सहित अनेक अधिकारी गांव का दौरा कर रहे है। पिछले पांच दिनों से अधिकारियों व दोनों समाज के लोगों से बातचीत भी हो रही है। वहीं सर्वसमाज भी कुछ आगे आया है। लेकिन विवाद सुलझने का नाम नहीं ले रहा है। रविवार को सरकारी स्कूल में जिला प्रशासन ने दोनों पक्षों की बैठक ली। सर्व समाज के 10 लोग तो दूसरे समाज के 30 लोगों ने बैठक में हिस्सा लिया।

लेकिन बैठक के दौरान किसी तरह का समझौता नहीं हुआ है। हालांकि लग रहा है कि एक दो दिन के अंदर यह विवाद शांत हो जाएगा। जिला प्रशासन ने दोनों पक्षों से अपील की है कि वो शांति बनाए रखे। वहीं सर्वसमाज पहले ही ऐलान कर चुका है कि गांव में भाईचारा खराब नहीं होने दिया जाएगा। वहीं आंबेडकर के नाम पर खेल स्टेडियम बनाने की बात तक हो चुकी है। लेकिन दूसरे समाज के लोग मान नहीं रहे है।

भीम आर्मी के 300 लोग भी गांव में पहुंचे

आंबेडकर सभा द्वारा रविवार दोपहर को अनाजमंडी में एक बैठक का आयोजन किया गया। जिसमें भीम आर्मी को भी बुलाया गया था। बताया जा रहा है कि करीब 300 से अधिक भीम आर्मी के सदस्य इस बैठक में शामिल हुए। बैठक के दौरान जिला प्रशासन पर एक तरफ कार्रवाई की बात भी कही। उन्होंने आरोप लगाया कि जिला प्रशासन सर्वसमाज के साथ है जबकि उक्त लोगों पर मामला दर्ज होना चाहिए।

गलियों में न तो बच्चे और न ही व्यक्ति आ रहा नजर

गांव बुवान में पिछले सात दिनों से यह स्थिति बनी हुई है कि गलियों में केवल पुलिस कर्मचारी नजर आ रहे है। जिला प्रशासन ने गांव की हर गली में पुलिस कर्मचारी तैनात कर रखा है। यहीं कारण है कि गांव में शांति बनी हुई है। पहले सुबह शाम गलियों में बच्चे खेलते हुए नजर आते थे लेकिन अब यह स्थित नहीं है। ऐसे में पूरे गांव में तनाव बना हुआ है। जिला प्रशासन पहले हीे स्पष्ट कर चुका है कि जब तक गांव में शांति नहीं बनती तब तक जिला प्रशासन यहां से पुलिस कर्मचारी लेकर नहीं जाएंगे।

बैठक में ये भी रखा गया प्रस्ताव

रविवार को जिला प्रशासन ने दोनों समाज के सदस्यों की बैठक ली। जिला प्रशासन की तरफ से प्रस्ताव रखा गया कि पंचायत घर में जहां भीम राव आंबेडकर की प्रतिमा लगी हुई है उसके साथ ही अन्य शहीदों की प्रतिमा लगा देगा ताकि सभी धर्म के लोग यहां पर आ जा सके। लेकिन बताया जा रहा है कि इस बात को भी नहीं माना गया है। जिला प्रशासन अब तक 10 बैठक कर चुका है। लेकिन हर बार बैठक बेनतीजा रही है।

Edited By: Jagran