जागरण संवाददाता, फतेहाबाद : गेहूं बिजाई का समय नजदीक आ रहा है। खेतों को तैयार करने की जल्दबाजी में किसान लगातार पराली को आग के हवाले कर रहे हैं। हरसेक से मिली लोकेशन के आधार पर कृषि विभाग के अधिकारी ट्रेस भी कर रहे हैं। लेकिन विरोध के डर से अधिकारी मौके पर नहीं जा रहे। हालांकि पराली जलाने वालों पर मामले दर्ज हो रहे हैं। पर न तो किसी किसान की गिरफ्तारी हुई और न ही जुर्माना लगाया गया है। पुलिस ने कृषि विभाग के अधिकारियों की शिकायत पर शुक्रवार को भी 25 किसानों पर मामला दर्ज हुआ। पराली जलाने से प्रदूषण लगातार बढ़ रहा है। शुक्रवार को तो धुएं के कारण आंखों में हो रही है। एयर क्वालिटी इंडक्स (एक्यूआइ) 489 दर्ज किया गया।

-------------------------------------------

जिले में यहां पर दर्ज हुआ मामला

शुक्रवार के आंकड़ों को मिलाकर अब तक पराली जलाने पर 139 किसानों पर मामला दर्ज हो चुका है। इसमें 10 महिलाएं भी शामिल है। इस बार भूमालिक के खिलाफ मामला दर्ज हो रहा ताकि वो अपने स्तर पर पराली में आगजनी रोकें। टोहाना खंड के गांव नन्हेड़ी में एक ही गांव में 18 किसानों ने पराली में आग लगाई है। इस गांव के सरपंच व ग्राम सचिव की कार्यशैली पर सवाल उठ रहे हैं। भूना पुलिस ने एडीओ विनय की शिकायत पर डूल्ट में पराली में आग लगाने पर एक किसान पर मामला दर्ज किया है। गांव भूना में ही पराली में आग लगाने पर एडीओ शैलेंद्र की शिकायत पर पांच किसानों पर मामला दर्ज किया है। तिया पुलिस ने कृषि अधिकारी सुखपाल सिंह की शिकायत पर हुक्कमावाली में एक किसान के खिलाफ मामला दर्ज किया है।

-----------------------------------------------------

शुक्रवार को ये रहा एक्यूआइ

सुबह साढ़े 4 बजे : 489

सुबह साढ़े 5 बजे : 314

सुबह साढ़े 7 बजे : 369

सुबह साढ़े 8 बजे : 402

सुबह साढ़े 10 बजे : 438

दोपहर साढ़े 3 बजे : 331

---------------------------------------

अब एयर क्वालिटी में प्रदूषण की मात्रा

पीएम 10 : 360

पीएम 2.5 : 299

----------------------------------------------

अब जरा आंकड़ों पर डाले नजर

किसानों के खिलाफ दर्ज मामले : 139

जिले में पराली जलाने की मिली लोकेशन : 240

पिछले साल कितने किसानों पर दर्ज हुआ था मामला : 481

पराली में आगजनी को रोकने के लिए कर्मचारियों लगाई ड्यूटी: 500 एयर क्वालिट कहां तक है ठीक

एयर क्वालिटी कैसी है

1-100 अच्छी

100-200 ठीक-ठाक

200- 300 खराब

300-400 बहुत खराब

400- 500 खतरनाक

--------------------------------------------

पराली जलाने की घटनाओं पर रोक के लिए सभी अधिकारियों को सख्त आदेश दिए गए हैं। अगर कोई पराली जला रहा है तो पुलिस को शिकायत दें। ऐसी घटनाओं की सूचना मिलते ही अधिकारी मौके पर पहुंचे। किसानों को जागरूक करने के लिए वैन भी भेजी जा रही है। इसके अलावा सरपंचों व ग्राम सचिवों को नोटिस जारी किया गया है।

डा. नरहरि सिंह बांगड़, उपायुक्त, फतेहाबाद।

शॉर्ट मे जानें सभी बड़ी खबरें और पायें ई-पेपर,ऑडियो न्यूज़,और अन्य सर्विस, डाउनलोड जागरण ऐप

budget2021