संवाद सूत्र, रतिया :

निकटवर्ती गांव कलोठा के राजकीय मिडिल स्कूल में पिछले काफी समय से अध्यापकों की कमी बनी हुई है। अध्यापकों की कमी के कारण स्कूल में पढ़ने वाले विद्यार्थियों की पढ़ाई प्रभावित हो रही है और रिजल्ट भी काफी खराब आ रहा है। बार बार अध्यापकों की मांग करने के बाद भी शिक्षा विभाग द्वारा स्कूल में अध्यापक न भेजने से गुस्साएं सैकड़ों विद्यार्थियों व अभिभावकों ने शिक्षा विभाग व अधिकारियों के खिलाफ जोरदार प्रदर्शन किया और स्कूल गेट के सामने धरना देकर नारेबाजी की । काफी समय बाद गांव के सरपंच व इंचार्ज स्कूल

इंचार्ज ने गांव वालों को आश्वासन देकर धरना उठवाया।

गांव निवासी बलविन्द्र ¨सह, भोला ¨सह , सुनील कुमार, हरविन्द्र ¨सह, गगन कुमार ,गुरदीप, बलवीर, सूरजा, शिमला देवी, वीना रानी आदि ने बताया कि उनके गांव के राजकीय मिडिल स्कूल में मात्र एक ही अध्यापक डेपूटेशन पर कार्यरत है। जिस कारण स्कूल मेंपढ़ने वाले 78 के करीब बच्चों की पढ़ाई काफी समय से खराब हो रही है और मासिक टेस्टों में भी रिजल्ट खराब आ रहा है। ग्रामीणों द्वारा कई बार शिक्षा विभाग के अधिकारियों को समस्या बताने के बाद भी स्कूल में अध्यापकों की नियुक्ति नहीं की जा रही। शिक्षा विभाग के अधिकारियों से नाराज सैकड़ों विद्यार्थियों व अभिभावकों ने अधिकारियों के खिलाफ जोरदार प्रदर्शन किया और स्कूल के गेट के सामने धरना देकर नारेबाजी की। सूचना मिलने पर स्कूल के इंचार्ज सुभाष कुमार व सरपंच सुरजीत ¨सह मौके पर पहुंचे। ग्रामीणों को आश्वासन देकर धरना समाप्त करवाया। इंचार्ज सुभाष कुमार का कहना है कि प्राइमरी स्कूल के दो अध्यापकों को मिडिल स्कूल में एडजस्ट करवा दिया गया है ताकि बच्चों की पढ़ाई प्रभावित न हो।

Posted By: Jagran