जागरण संवाददाता, फतेहाबाद: नशा मुक्ति केंद्र में स्वास्थ्य विभाग ने सुरक्षा बढ़ा दी है। अब मरीज अपने पास मोबाइल भी नहीं रख पाएंगे। टोकन के बिना मरीज से तीमारदार नहीं मिल पाएंगे। दैनिक जागरण में खबर प्रकाशित होने के बाद स्वास्थ्य विभाग के उच्च अधिकारियों ने संज्ञान लिया है। सोमवार दोपहर को सिविल सर्जन डा. मनीष बंसल नशा मुक्ति केंद्र में पहुंचे। अव्यवस्था मिलने पर स्टाफ को फटकार लगाई। ड्यूटी में कोताही बरतने पर सिक्योरिटी गार्ड को हटाने के आदेश दिए हैं। जहां से तस्कर मरीजों को नशा पहुंचाते थे, उन खिड़कियों पर जाली लगा दी गई है। सिविल सर्जन डा. मनीष बंसल ने निरीक्षण के दौरान स्टाफ को सख्त हिदायत जारी की कि कोई भी व्यक्ति बिना चे¨कग के नशा मुक्ति केंद्र में एंट्री नहीं करेगा। निरीक्षण के दौरान उप सिविल सर्जन डा. गिरीश भी मौजूद रहे। सिविल सर्जन डा. बंसल ने बताया कि खिड़कियों पर जाली लगवा दी गई है। इसके अलावा खिड़कियों के हैंडल भी उतार दिए गए हैं। मरीज जब तक यहां पर दाखिल रहेगा अपने पास मोबाइल फोन नहीं रख सकेगा। मरीज जब दाखिल होगा, उसे टोकन दिया जाएगा। बिना टोकन के तीमारदार मरीज से नहीं मिल पाएंगे। मरीजों से मिलने के लिए सुबह 11 से 12 तथा शाम को 5 से 6 का समय फिक्स किया गया है। इसके अलावा बिना चे¨कग के कोई भी व्यक्ति नशा मुक्ति केंद्र में दाखिल नहीं हो पाएगा।

---------

दैनिक जागरण ने उठाया था मुद्दा

दैनिक जागरण ने सोमवार के अंक में नशा मुक्ति केंद्र में तस्कर खिड़कियों से सप्लाई कर रहे नशा खबर प्रकाशित की थी। जिसके बाद स्वास्थ्य विभाग ने संज्ञान लेते हुए सुरक्षा बढ़ाई है। यहां पर तीन दिन पहले दो मरीज बाथरूम में हेरोइन का इंजेक्शन लगाते हुए मिले थे। इसके अलावा चार दिन पहले नशा मुक्ति केंद्र में ही मरीजों के पास लिफाफे में हेरोइन पहुंची थी।

Posted By: Jagran

अब खबरों के साथ पायें जॉब अलर्ट, जोक्स, शायरी, रेडियो और अन्य सर्विस, डाउनलोड करें जागरण एप