जागरण संवाददाता, फतेहाबाद: अमीर परिवार के लोगों से मोटे रुपये आसानी से वसूलने का हनीट्रैप आसान रास्ता बन चुका है। खासकर, गुलाबी नगरी के तौर पर जाना जाने वाला अपना फतेहाबाद शहर इसका गढ़ बनता जा रहा है। अब तक शातिर महिलाएं कई लोगों को इसमें फंसा चुकी है और मोटे पैसे भी वसूल चुकी हैं। पुलिस ने बेशक अनैतिक देह व्यापार पर काफी शिकंजा कस रखा है लेकिन इसके बावजूद एक-दो माह की अवधि में हनीट्रैप के एकाध मामले सामने आ ही जाते हैं। पुलिस अब तक कई ऐसे गिरोह को भी पकड़ चुकी है। इनमें एक एनआरआइ से 60 लाख रुपये वसूलने का मामला भी शामिल है।

-------

ऐसे दे रहे हैं घटना को अंजाम

फतेहाबाद क्षेत्र में अधिकतर मामलों में युवतियों ने अपने शिकार को फोन के माध्यम से फंसाती हैं है। ये युवतियां किसी भी अंजान नंबर पर फोन मिलाती हैं। इसके बाद युवक से धीरे-धीरे दोस्ती करती हैं। फिर उन्हें मिलने के लिए बुलाती हैं। मुलाकात के दौरान अपने शिकार से बातों ही बातों में उसकी पूरी फैमिली बैकग्राउंड जान लेती हैं। इसके बाद शुरू होता है प्लान का दूसरा चरण। इस चरण में युवक के साथ चोरी-छिपे अंतरंग तस्वीरें और वीडियो ली जाती हैं। बाद में अचानक पति या अन्य युवक मौके पर पहुंच जाता है और मारपीट, गाली-गलौज के बाद युवक को उसकी तस्वीर और वीडियो दिखाकर ब्लैकमे¨लग का दौर शुरू कर देता है ं।

--फतेहाबाद में हनीट्रैप जैसे अब तक कई मामले सामने आ चुके हैं। हाल ही में हिसार के बैंक मैनेजर को फंसाया गया और फिर पांच लाख रुपए मांगे गए। इससे पहले एक लाइनमैन को फंसाया गया और फिर गिरोह ने दो लाख रुपये मांग लिए। इससे पहले शहर के एक गिफ्ट गैलरी संचालक को फंसाया गया था। सबसे चर्चित मामला यह भी था कि महिला ने एनआरआइ को फंसाकर उससे 60 लाख रुपये मांग लिए थे। हालांकि ये गिरोह पकड़े जा चुके हैं। लेकिन कोर्ट से छूटने के बाद फिर इस धंधे को अंजाम देते हैं।

Posted By: Jagran

डाउनलोड करें जागरण एप और न्यूज़ जगत की सभी खबरों के साथ पायें जॉब अलर्ट, जोक्स, शायरी, रेडियो और अन्य सर्विस