गुरमीत कुमार, जाखल :

हरियाणा और पंजाब में शराब की दरों में बड़ा अंतर है। इससे नशा तस्करी भी बढ़ी है। हरियाणा पंजाब की सीमा पर आए दिन नशा तस्करी के मामले सामने आ रहे हैं। इसका मुख्य कारण हरियाणा में शराब के दाम पंजाब की अपेक्षा अति कम है।

हरियाणा पंजाब राज्य सीमा पर सटा हुआ। फतेहाबाद जिले का कस्बा जाखल शराब तस्करी का केंद्र बना हुआ है। यहां शराब के दाम बहुत कम है। यहीं कारण है यहां सस्ती शराब के लालच में शाम ढलते ही पड़ोसी राज्य के शराबियों की भी भीड़ जमा होती है। शराबियों की भीड़ जमा होने से यहां सार्वजनिक स्थल मयखानों का रूप लेते जा रहे हैं। वहीं बस स्टैंड व रेलवे स्टेशन पर तो यह स्थिति शाम के दौरान कभी भी देखी जा सकती है। बताया जा रहा है कि एक शराब ठेकेदार ने देशी शराब के दाम कम कर दिए है। यहीं कारण है कि लोग यहां से शराब अधिक लेकर जा रहे है।

पंजाब में देसी शराब की बोतल का रेट 250 रुपये के करीब है। जबकि हरियाणा में यहां यह बोतल मात्र 100 रुपए में दी जा रही है। जबकि जाखल के पंजाब सीमा पर स्थित ठेका तो केवल 60 रुपये मे देसी शराब की बोतल बेच रहा है। पंजाब के लोग जाखल में आने से यहां के लोग परेशान है।

------------------------------

ट्रेन व बसों में स्थिति अधिक खराब

पड़ोसी राज्य पंजाब के शराबी शाम ढलते ही रेल व बसों के माध्यम से यहां पहुंचते है। मानसा से जाखल के रास्ते सीधी ट्रेन शाम करीब पांच बजे जाखल पहुंचती है। इसमें बड़ी संख्या में गांवों सहित कस्बा बरेटा, बुढ़लाडा के शराबी इस ट्रेन से जाखल पहुंचते हैं। वहीं शराब पीने के बाद देर शाम के समय 2, 3 ट्रेन वापस जाती हैं तो यह उसमें वापस लौट जाते हैं। बताया गया है कि कभी कभार ट्रेन देरी से पहुंचे या फिर अन्य कारणों से कोई लेट हो जाए तो जाखल से बुढ़लाडा के रास्ते देर रात 10 बजे तक रोडवेज बस का चलन है तो शराबी इस बस को साधन बना लेते हैं।

------------------------

पंजाब के शराब कारोबारी घाटे में

हरियाणा में शराब सस्ती होने पर इससे यहां पंजाब सरकार को रेवन्यू का नुकसान हो रहा है। वहीं शराब कारोबारियों को भी प्रति वर्ष करोड़ों रुपये की क्षति हो रहीं हैं। बता दें कि पंजाब के शराब कारोबारियों द्वारा भी इसका कड़ा विरोध किया गया है। विगत वर्ष हरियाणा के पड़ोसी जिले के कारोबारियों की मीटिग में यह मुद्दा जोर शोर से उठाया गया था। जिसमें उन्होंने शराब तस्करी पर अंकुश लगाने के लिए ठोस नीति या कानून तैयार करने की मांग की थी। पंजाब के 7 जिलों जिसमें बठिडा, फिरोजपुर, फाजिल्का, फरीदकोट, मानसा, मोगा व मुक्तसर जिले के शराब ठेकेदारों द्वारा एक्साइज विभाग के समक्ष यह मुद्दा उठाते हुए पंजाब हरियाणा में शराब के एक समान रेट करने की मांग भी की थीं।

-------------------

मेरे संज्ञान में ऐसा मामला नहीं है। फिर भी शाम के समय ट्रेन में जांच अभियान चलाया जाएगा। अगर बाहर का व्यक्ति मिला और उसके पास शराब की बोतल पाई गई तो उसके खिलाफ कार्रवाई की जाएगी।

- अब्दुल लतीफ, इंचार्ज, जाखल रेलवे सुरक्षाबल।

------------------------हरियाणा पंजाब सीमावर्ती स्थानों पर नशेड़ियों व नशे पर अंकुश लगाने के लिए एक पीसीआर गश्त करती रहती है और नाका लगाकर भी चेकिग की जा रही है।

कविता, थाना प्रभारी, जाखल।

Posted By: Jagran