संवाद सहयोगी, टोहाना : पिछले तीन दिनों से रुक-रुक हो रही बरसात के बाद टोहाना क्षेत्र की कई कालोनियों के घरों में बरसाती पानी भरने से जहां घर का सामान खराब हो गया, वहीं कई मकानों की छतें गिरने से गरीबों के आशियाने ढह गये। वहीं कई मकानों में दरारें आने से मकान गिरने के कागार पर हो गये हैं। जिससे पीड़ित परिवार अपने सामान को सुरक्षित अन्य स्थानों पर ले जा रहे हैं।

हालांकि शनिवार को बरसात तो नहीं हुई, लेकिन मौसम के खुलने से मकानों में दरारें आने से लोग डर के साये में जी रहे है। इसी कड़ी में वार्ड नंबर 8 स्थित राधे श्याम मंदिर घोड़े वाला गली में कई कच्चे व पक्के घरों में बरसात के चलते दरारें आ गईं। जिसके चलते उन्हें भी अपने आशियाने ढहने का खतरा सिर पर मंडराने लगा है। यदि आने वाले समय में रात्रि को अचानक बरसात आई तो जान-माल का भी खतरा हो सकता है। इस क्षेत्र में सुरेश कुमार, राजेश कुमार, बलविद्र सिंह, लड्डू राम व आसपास के घरों में दरारें आने से सभी अपना आशियाना बचाने को लेकर चितित है। उन्होंने प्रशासन से उन्हें मुआवजा देने की मांग उठाई है। इसी तरह डांगरा में चंद्रभान का मकान टायलेट व बाथरूम सहित ढह गया। जिससे परिवार के लोग बाल-बाल बच गये। जबकि मकान में रखा सामान नष्ट हो गया। बताया जाता है कि चंद्रभान अपना पालन-पोषण भेड़-बकरियां चराकर करता है। उन्होंने प्रशासन से उसे मुआवजा देने की मांग की है, ताकि वह अपना मकान बनाकर उसमें अपने परिवार को रख सके।

टोहाना की राजनगर बस्ती में एक गरीब परिवार के मकान की छत गिरने से घर का सारा सामान बुरी तरह से नष्ट हो गया। पीड़ित आशा रानी ने बताया कि पिछले तीन दिनों से हो रही बरसात के कारण उसके मकान की छत टपकने लग गई थी। अचानक दिन के समय जैसे ही वह मकान में पोचा लगाकर बाहर आई तो जोरदार धमाके के साथ उसके मकान की छत गिर गई। जिससे घर में रखा घरेलू सामान क्षतिग्रस्त हो गया। उन्होंने प्रशासन से उन्हें मुआवजा दिलाने की मांग की है।

Edited By: Jagran