जागरण संवाददाता, फतेहाबाद : प्रदेश सरकार ने एक तरह से किसानों को समर्थन मूल्य पर फसल खरीदने की पिछले कुछ वर्षों से अघोषित गारंटी दी हुई है। बस किसान को अपनी फसल का पंजीकरण करवाना होता है। जो किसान अपनी फसल का पंजीकरण करवा लेता है। उसकी फसल सरकार निर्धारित समर्थन मूल्य पर खरीदती है। इस बार सरकार खरीफ सीजन की 6 फसलें समर्थन मूल्य पर खरीदेगी। जिसमें कपास, बाजरा, मूंगफली व मूंग प्रमुख हैं। अब जिला कृषि विभाग, मार्केट बोर्ड व राजस्व विभाग के कर्मचारी किसानों को अपनी फसल का पंजीकरण करवाने के लिए गांवों में जाकर प्रेरित कर रहे है। प्रदेश सरकार के विशेष निर्देश पर ये अभियान चलाए जा रहे है। ऐसे में किसानों को अब फसल पंजीकरण का अब आखिरी मौका दिया जा रहा है। किसान कृषि एवं किसान कल्याण विभाग द्वारा खरीफ की फसल के लिए मेरी फसल मेरा ब्योरा पोर्टल पर 31 अगस्त तक पंजीकरण करवा सकते है।

मार्केट में अब बाजरे की फसल को छोड़ दे तो अधिकांश खरीफ फसलों का भाव निर्धारित समर्थन मूल्य से अधिक है। ऐसे में किसान अपनी फसल का अभी तक पंजीकरण को लेकर उत्साहित नजर नहीं आ रहे है। इस बार अभी तक महज 40 हजार किसानों ने ही अपनी फसल का पंजीकरण करवाया है। जबकि सरकार का टारगेट 60 हजार से अधिक करने का है। जिले में 82 हजार से अधिक किसान है। जिनका कृषि कार्ड बना हुआ है।

इस तरह करवाएं किसान अपना पंजीकरण

किसान अपनी फसल का पंजीकरण करवाने के लिए निकटवर्ती सीएससी सेंटर से आवेदन करवाने के साथ खुद ही इंटरनेट प्रयोग करते हुए भर सकते है। इसके लिए उन्हें डब्ल्यू डब्ल्यू डब्ल्यू डॉट एफएएसएएल एचएआरवाईएएनए डाट जीओवी डाट आईएन पर जाकर मेरी फसल मेरा ब्योरा पोर्टल ओपन करना है। ओपन होने के बाद किसान अनुभाग दिखाई देगा। जिस पर क्लिक करते हुए किसान मांगी गई जानकारी भरते हुए अपनी फसल का पंजीकरण कर सकते है। इसके लिए किसान को आधार कार्ड, फैमिली आइडी नंबर, बैंक खाता नंबर, जमाबंदी की जरूरत पड़ेगी। आंकड़ों में जाने कितनी हेक्टेयर में फसले नरमे की फसल : 69 हजार हेक्टेयर धान : 1 लाख 10 हजार हेक्टेयर ग्वार : 4 हजार हेक्टेयर बाजरा : 3 हजार हेक्टेयर

मूंगफली : 10 हजार हेक्टेयर

मूंग : 2 हजार हेक्टेयर 31 अगस्त तक पंजीकरण करवाने का किसानों को आखिरी मौका : सिहाग

किसानों के लिए अपनी खरीफ फसलों का पंजीकरण मेरी फसल मेरा ब्योरा पोर्टल पर करवाना आवश्यक है, ताकि किसान कृषि विभाग द्वारा चलाई जा रही विभिन्न योजनाओं का लाभ व अपनी फसल की उपज को अनाज मंडी में बेचने में सुविधा का लाभ ले सकें। अब किसानों के पास पंजीकरण की अंतिम तारीख 31 अगस्त निर्धारित की गई है। ऐसे में जल्द से जल्द किसान अपनी फसल का पंजीकरण करवा ले।

- डा. राजेश सिहाग, उपनिदेशक, कृषि एवं किसान कल्याण विभाग।

Edited By: Jagran