संवाद सूत्र, समैन : टोहाना खंड के गांव समैन की स्टार कबड्डी खिलाड़ी सुमन गिल को दोबारा हाई कोर्ट की शरण लेनी पड़ी है। विश्व कप में दो बार हिस्सा ले चुकी सुमन गिल ने हाई कोर्ट में याचिका दायर कर सरकार से नौकरी देने की मांग की है। सुमन गिल ने हाई कोर्ट के वकील आफताब खारा के माध्यम से याचिका लगाई है। हाई कोर्ट ने सरकार को नोटिस जारी कर जवाब मांगा है।

सुमन गिल के वकील आफताब खारा ने बताया कि सुमन गिल वर्ष 2013 व 2016 के कबड्डी के विश्व कप में खेल चुकी है। इस खेल में वह मेडल भी जीत चुकी है। हरियाणा सरकार की 2013 की खेल नीति के तहत उसे आउट-ऑफ सरकारी नौकरी मिलनी चाहिए थी, लेकिन उन्हें नही मिली। सुमन गिल ने नौकरी लेने के लिए हाई कोर्ट का दरवाजा खटखटाया। सरकार ने हाई कोर्ट में जवाब दिया कि हमने खिलाड़ियों के नई खेल नीति बनाई है,उसके तहत खिलाड़ियों को नौकरी देने के लिए विज्ञापन निकाला जाएगा। सरकार के इस जवाब पर हाई कोर्ट में याचिका का निपटारा हो गया था। सरकार ने खिलाड़ियों के लिए भर्ती निकालकर आवेदन जमा करवाए, लेकिन इस भर्ती में सुमन गिल का आवेदन यह कहते हुए अस्वीकार कर दिया गया कि जो टूर्नामेंट सुमन गिल ने खेला है वह सरकार की नई खेल नीति के दायरे में आता है। जबकि गांव समैन की एक अन्य कबड्डी खिलाड़ी रेनू गिल को इस टूर्नामेंट में खेलने के आधार पर ही सरकारी नौकरी दी गई है। सुमन गिल ने हाईकोर्ट में अपना पक्ष रखते हुए नौकरी देने की मांग की है। हाई कोर्ट ने सुमन का पक्ष सुनते हुए मामले में सरकार को नोटिस जारी किया है।

लोकसभा चुनाव और क्रिकेट से संबंधित अपडेट पाने के लिए डाउनलोड करें जागरण एप

Posted By: Jagran

अब खबरों के साथ पायें जॉब अलर्ट, जोक्स, शायरी, रेडियो और अन्य सर्विस, डाउनलोड करें जागरण एप