दीपक शर्मा, झज्जर : बढ़ती जनसंख्या व घटती जोत के चलते किसानों के लिए अपने परिवार का पालन-पोषण करना कठिन हो रहा है। बदलती परिस्थितियों के मद्देनजर किसानों को खेती-बाड़ी से जोड़े रखने के लिए वैज्ञानिक पद्धति के मॉडल समन्वित कृषि प्रणाली (आइएफएस) को लाया जा रहा है। प्रदेश में जिला मुख्यालय स्थित कृषि विज्ञान केंद्र पर इस प्रणाली के तहत काम शुरू हो चुका है जिसमें एक हेक्टेयर (करीब ढाई एकड़) जमीन में किसान के रहने से लेकर खेती व पशुपालन सहित करीब एक दर्जन से अधिक इकाइयां लगाई जाएंगी। इस मॉडल से बदलेगी किसान की सोच : करीब ढाई एकड़ के इस मॉडल में किसान के लिए घर, खेती, बागवानी, दुधारू पशु, मछली पालन, बकरी पालन, भेड़ पालन, मुर्गा पालन, सुअर पालन, केंचुआ पालन, खुंभ उत्पादन, मधुमक्खी पालन, बायो गैस, पॉली हाउस व वर्मी कंपोस्ट की इकाइयां लगाई जाएंगी। सभी इकाइयां होने के कारण इनसे एक-दूसरे का खर्च भी कम होगा। दुधारू पशुओं के गोबर से खेती व बागवानी के लिए खाद बनेगी और खेती से पशुओं को चारा मिलेगा। बकरी व मुर्गे के मल से मछलियों को खाना मिलेगा। मधुमक्खियां खेती व बागवानी के पौधों से रस ले पाएंगी। बचे हुए फसल अवशेष में खुंभ उत्पादन होगा। जिसके माध्यम से किसानों को सालभर आय होगी और खाद्य पदार्थ भी उपलब्ध रहेंगे। सीमित संसाधनों में बढ़ेगी किसान की आय : मूल रूप से किसानों की आय बढ़ाने के लिए इसे विकसित किया जा रहा है। सबसे पहले कृषि विज्ञान केंद्र में समन्वित कृषि प्रणाली मॉडल तैयार करके किसानों को प्रेरित करेंगे। ट्रेनिग लेने के लिए पहुंचने वाले किसानों, पशुपालकों व युवक-युवतियों को विशेषज्ञ वैज्ञानिक इसका लाइव डेमो दिखाएंगे। सामान्यत: किसान करीब ढाई एकड़ जमीन में खेती करके 50-60 हजार रुपये ही कमा सकता है, जबकि मॉडल के माध्यम से किसान घर खर्च के अलावा ढाई लाख तक कमा पाएगा।

केवीके में मछली और पशु पालन शुरू : मौजूदा समय में कृषि विज्ञान केंद्र में कृषि, बागवानी की इकाई तैयार होने के साथ हरियाणा नस्ल दो गाय गोमती व गायत्री का पालन शुरू कर दिया है। फरवरी में मछली व बकरी पालन भी शुरू कर दिया जाएगा।

घटती कृषि भूमि के चलते किसानों की आय बढ़ाने के उद्देश्य से चलाए जा रहे अभियान के तहत समन्वित कृषि प्रणाली मॉडल बनाया जा रहा है। लाइव डैमो दिखाकर प्रणाली को अपनाने के लिए प्रेरित किया जाएगा।

डा. उमेश शर्मा, वरिष्ठ संयोजक, कृषि विज्ञान केंद्र।

Posted By: Jagran

डाउनलोड करें जागरण एप और न्यूज़ जगत की सभी खबरों के साथ पायें जॉब अलर्ट, जोक्स, शायरी, रेडियो और अन्य सर्विस