जागरण संवाददाता, फतेहाबाद : फसल खराब होने पर बीमा मिले। इसके लिए जरूरी है कि किसान क्रेडिट कार्ड यानी केसीसी के बैंक खाते में प्रीमियम के लिए जरूरी रुपये रखे। उसके बाद ही किसान का बीमा कटेगा। दुर्भाग्यवश उसकी फसल ओलावृष्टि या जलभराव से खराब होती है या कम उत्पादन होता है तो किसान को मुआवजा भी मिलेगा। कई किसानों के खाते में रुपये न होने के चलते ऐसी परेशानी आ रही थी। ऐसे में जिला अग्रणी बैंक के महाप्रबंधक अनिल कुमार ने किसानों से आग्रह किया है कि वे 12 दिसंबर से पहले अपने बैंक खाते में बीमा के प्रीमियम कटने योग्य रुपये जमा करवाए, ताकि कंपनी को उनकी फसल का प्रीमियम काटकर भेजा जा सके।

-----------------------

फसल चक्र अपनाया है तो बैंक को दे सूचना :

यदि कोई किसान अपनी फसल की पूर्ववर्ती योजना में बदलाव करते हुए फसल चक्र अपनाया है तो वे किसान भी बैंक अधिकारी को लिखित में इसकी सूचना दे, ताकि किसान ने जो फसल बोई हुई है उसका ही उसे प्रीमियम काटा जा सके। कई किसान फसल चक्र अपनाते हुए बैंक में ऋण लेते समय बोई गई फसल के अलग फसल बो देते है। ऐसे में प्रीमियम तो बैंक के पास मौजूद सूचना के आधार पर उसी फसल का कट जाता है, लेकिन बाद में फसल खराब होने या क्रॉप कटिग एक्सपिरियंस के आधार पर उसे उसका लाभ नहीं मिल पाता। ऐसे में किसान अपनी फसल के बारे में 10 दिसंबर से पहले बैंक को सूचना दे कि उसने अपने खेत में अमुक फसल बोई हुई है।

-------------------

जिले में 85 हजार ऋण किसान :

जिले के विभिन्न बैंकों में 85 हजार ऋणी किसान है। योजना के अनुसार किसान क्रेडिट कार्ड बनाने वाले किसानों की फसल का प्रीमियम काटना अनिवार्य है। ऐसे में इस बार भी सभी ऋणी किसानों की फसलों का बीमा होगा। इसलिए जरूरी है कि किसान अपने केसीसी में प्रीमियम के अनुसार निर्धारित रुपये रखने होंगे।

-------------------------प्रधानमंत्री फसल बीमा योजना के तहत खरीफ व रबी फसल का बीमा बैंक के माध्यम से किया जाता है। इसके लिए बीमे की राशि संबंधित किसानों के कृषि कार्ड खाते से की जाती है। किसानों से आग्रह है कि वे रबी फसल के लिए 12 दिसंबर तक कृषि कार्ड खाते में बीमा राशि की उपलब्धता सुनिश्चित करें ताकि आपकी फसल का बीमा करवाया जा सके।

- अनिल कुमार मीणा, एलडीएम।

Posted By: Jagran

अब खबरों के साथ पायें जॉब अलर्ट, जोक्स, शायरी, रेडियो और अन्य सर्विस, डाउनलोड करें जागरण एप