जागरण टीम फतेहाबाद :

रविवार को हिसार में मुख्यमंत्री दौरे का विरोध कर रहे किसानों पर पुलिस ने लाठीचार्ज के विरोध में फतेहाबाद में सात जगह किसानों ने रोड जाम किया। इस दौरान किसान नेताओं ने तीनों कृषि कानून वापस लेने की मांग की। वहीं किसानों द्वारा रोड जाम करने से आमजन को भारी परेशानी हुई। खासकर कोरोना काल में एकदम से जाम लगाने से लोगों को किसान नेताओं का घंटों इंतजार करना पड़ा।

फतेहाबाद जिले में जाखल गांव तलवाड़ा में भूना रोड पर जाम लगा दिया। इसी तरह भट्टूकलां में पीलीमंदोरी रोड पर भट्टूकलां-चौपटा रोड पर जाम लगा दिया। रतिया में रतिया शहर के बीचों बीच अनेक किसान संगठन के पदाधिकारी एकत्रित हुए। इसके बाद बुढ़लाडा होकर भाजपा विधायक लक्ष्मण नापा के कार्यालय का घेराव किया। इससे फतेहाबाद बुढ़लाडा रोड से गुजरने वाले लोगों को परेशानी हुई। फतेहाबाद शहर से गुजरते हिसार-सिरसा बाइपास पर किसानों ने जाम लगा दिया। टोहाना में गांव समैण, कन्हडी व अकांवाली में भी किसानों द्वारा जाम लगाया गया। कन्हडी के किसानों ने टोहाना-हिसार मार्ग पर जाम लगाने से आमजन को परेशानी हुई। इस दौरान प्रदर्शन कर रहे किसानों ने मांग कि सरकार तीनों कानून वापस ले। किसानों पर किए गए अत्याचार की माफी मांगते हुए जिन किसानों पर चोट लगी। उनका इलाज करवाया जाए।

वहीं किसानों के प्रदर्शन को देखते हुए फतेहाबाद से हिसार, सिरसा व रतिया चलने वाली बसों को डिपो में वापस बुला गया। इसी तरह टोहाना बस डिपो की बसें बस स्टैंड में खड़ी करवा दी। हालांकि इस दौरान बसें वापस बुलाने पर यात्रियों को परेशानी हुई।