संवाद सूत्र, भूना : कुलां रोड पर शास्त्री मंडी के निकट स्थित चंद्रावल माइनर में करीब 25 फीट चौड़ी दरार आने से करीब 50 एकड़ भूमि जलमग्न हो गई, जबकि कंबोज कालोनी में भी जलभराव हो गया। रविवार अलसुबह आई दरार की सूचना मिलते ही दर्जनों किसान कस्सी, फावड़ा, रस्सी व अन्य सामान लेकर लेकर घटना स्थल की ओर दौड़ पड़े। अपने स्तर मिट्टी से बाढ़ लगा दी। जिसके चलते नहर का पानी खेतों में खड़ी गेहूं की फसल में नहीं पहुंच पाया। हालांकि पानी का बहाव तेज होने के कारण दरार बढ़ती ही जा रही थी और पूरी तरह से अनियंत्रित हो चुकी थी।

सुबह 10 बजे के करीब सिचाई विभाग के कनिष्ठ अभियंता ललित कुमार ने मौके पर पहुंचकर दर्जनों मजदूरों व किसानों की सहायता से दरार पर काबू पाने का प्रयास किया और करीब 5 घंटे की कड़ी मशक्कत के बाद जेसीबी की मदद से दरार पाटने में सफलता मिली तो सिचाई विभाग व किसानों ने राहत की सांस ली।

दरअसल, रविवार अलसुबह शास्त्री मंडी के निकट स्थित खेतों में पहुंचे किसानों ने देखा कि चंद्रावल माइनर से अत्यधिक पानी का रिसाव हो रहा है और माइनर का पानी खेतों में प्रवेश कर रहा है। मोबाइल फोन के माध्यम से अन्य किसानों को मौके पर बुलवाया गया और बाल्टियां, रस्सी, मिट्टी के भरों प्लास्टिक के कट्टों के द्वारा आग पर काबू पाने का प्रयास किया गया, जबकि तीन ट्रैक्टर के द्वारा दरार भरने का कार्य शुरू कर दिया गया। हालांकि पानी का बहाव इतना तेज था कि दरार बढ़ती ही जा रही थी। जिसके चलते घटना की सूचना सिचाई विभाग को दी गई। सूचना मिलते ही सिचाई विभाग के कनिष्ठ अभियंता ललित कुमार ने नहर बंद करवाकर जेसीबी की मदद से 10 मजदूरों की टीम के साथ दरार पाटने का कार्य शुरू करवा दिया। लगातार 3 घंटे तक चले अभियान के बाद दरार पाटकर राहत प्रदान की गई। तब तक साथ लगती भूमि व कालोनी में जलभराव हो चुका था।

Posted By: Jagran

डाउनलोड करें जागरण एप और न्यूज़ जगत की सभी खबरों के साथ पायें जॉब अलर्ट, जोक्स, शायरी, रेडियो और अन्य सर्विस