विजय सहारण, भिरडाना :

सरकार और स्वास्थ्य विभाग प्रदेश के लोगों को बेहतर स्वास्थ्य सुविधाएं देने के दावे करती है लेकिन हकीकत में ऐसा कुछ नहीं है। आठ हजार के लगभग आबादी वाले और पूर्व सीएम बंसीलाल के ससुराल गांव भूथनकलां में डिलीवरी हट जैसी मुलभूत और जरूरी सुविधा नहीं है। इसके अलावा इस पीएचसी में चिकित्सा अधिकारी भी नहीं है। जिसके कारण एमरजेंसी में डिलीवरी के समय यहां की प्रसूताओं को भिरडाना पीएचसी या फतेहाबाद का रूख करना पड़ रहा है। जिसकी वजह से लोगों को काफी दिक्कत हो रही है। इसके अलावा इस पीएचसी में एंबुलेंस सुविधा भी नहीं है। लोगों ने मांग की है की हमारे गांव की पीएचसी में नर्सिंग स्टाफ दिया जाए ताकि लोगों को सुविधा मिल सके।

गांव में अस्पताल होने के बावजूद लोगों को प्राइवेट अस्पताल में इलाज लेना पड़ रहा है। इस गांव के साथ ही दूसरे गांव के लोग भी यहां पर इलाज लेने के लिए आते है। लेकिन सुविधा न होने के कारण वापस निराश लौटना पड़ता है।

----------------------------------------

2015 मे बंद हुआ डिलीवरी हट

ग्रामीणों ने बताया की जिस समय बंसीलाल प्रदेश के मुख्यमंत्री थे। तब इस गांव ने खूब तरक्की की थी। गांव में जलघर के अलावा पीएचसी का उद्घाटन हुआ था। इस दौरान यहां पूरा स्टाफ था और डिलीवरी गांव मे ही होती थी। लेकिन वर्ष 2015 से यहां से डिलीवरी स्टाफ हटा लिया।

------------------------------

सरपंच ने लिखा था विभाग पत्र

गांव के सरपंच महेंद्र कुलड़िया ने बताया की उन्होंने सरपंच पद संभालने के बाद इस बारे में भाजपा नेता सुभाष बराला से मिला था। सुभाष बराला ने यह पत्र स्वास्थ्य विभाग के डायरेक्टर को भेजा था। यह पत्र मैं खुद पंचकूला जाकर विभाग के डायरेक्टर को डिलीवरी स्टाफ की मांग करते हुए अपनी समस्या बताई थी।अभी तक विभाग के अधिकारियों पर उस पत्र का कोई असर नहीं हुआ। अब फिर वह इस मांग को उठाएंगे।

----------------------------------

ये कहना है ग्रामीणों का

गांव भूथनकलां के ग्रामीण रमेश कुमार, सुरेश, दिलबाग सिंह, सुरजीत सिंह का कहना है कि जब यहां पर सभी प्रकार की सुविधा है तो डिलीवरी हट क्यों नहीं है। जब भी किसी महिला को यहां पर लाया जाता है तो उसे रेफर कर दिया जाता है। अस्पताल बना था तब जमीन देते समय शर्त थी कि यहां पर सभी प्रकार की सुविधा मिलेगी। लेकिन यहां पर ऐसा नहीं है। बाहर जाने में सबसे ज्यादा दिक्कत महिलाओं को होती है। उनके लिए ही इस अस्पताल में सुविधा नहीं है।

--------------------------------

हमारे पास कुछ समय पहले सरपंच आए थे। हमने उनकी मांग को विभाग के उच्चाधिकारियों को भेज दिया है। डिलीवरी हट नहीं होने से समस्या तो है लेकिन स्टाफ की कमी के चलते यह समस्या है। बहुत जल्द ही समस्या का समाधान करने का प्रयास करेंगे।

मनीष बंसल, सीएमओ फतेहाबाद।

Posted By: Jagran