फतेहाबाद : जागरण संवाददाता

आज से ठीक एक साल पहले जिले में कोरोना संक्रमण को रोकने के लिए वैक्सीनेशन अभियान की शुरूआत की गई थी। वैक्सीनेशन अभियान शुरू होने के बाद ही कोरोना की दूसरी लहर भी आ गई थी। लेकिन इस साल में अब लोगों को कोरोना की तीसरी लहर से जूझना पड़ रहा है। लेकिन राहत ये है कि जिले में अब तक 88.89 प्रतिशत लोगों ने वैक्सीन की प्रथम डोज लगवा ली हैं। वहीं अब केवल 11 प्रतिशत ऐसे लोग हैं जिन्होंने वैक्सीन की एक भी डोज नहीं लगवाई है। इसके अलावा 58.07 प्रतिशत लोगों ने वैक्सीन की दोनों डोज लगवाई है। अब स्वास्थ्य विभाग को यही टारगेट को पूरा करना है। कोरोना की तीसरी लहर शुरू होने के साथ ही लोग अब वैक्सीन लगवाने के लिए आगे आ रहे है। करीब एक महीने पहले जिले में केवल 40 प्रतिशत लोगों ने वैक्सीन की दोनों डोज लगवाई थी। लोग अब जान चुके है कि कोरोना संक्रमण से बचना है तो वैक्सीन सबसे जरूरी है। यहीं कारण है कि एक महीने में 18 प्रतिशत से अधिक लोगों ने वैक्सीन की दूसरी डोज लगवा ली है।

किशोर सबसे आगे वैक्सीन लगवाने में

इसी साल दो जनवरी से किशोरों को वैक्सीन लगाने का अभियान शुरू किया गया है। जिले में 55 हजार ऐसे किशोर है जिन्हें वैक्सीन लगनी है। इनमें से 29 हजार किशोरों ने वैक्सीन की पहली डोज लगवा ली है। ऐसे में टारगेट का 53 प्रतिशत किशोरों ने वैक्सीन लगवाई है। ऐसे में अगले 15 दिनों में इन किशोरों को दूसरी डोज लगनी शुरू हो जाएगी। जिस तरह किशोरों को वैक्सीन लगने का अभियान शुरू किया गया था अब यह ठंडा पड़ता जा रहा है। पिछले पांच दिनों में महज दो हजार किशोरों को वैक्सीन लगी है। शुरूआती तीन दिनों में 15 हजार किशोरों को वैक्सीन लगी थी। ऐसे में स्वास्थ्य विभाग के पास अब चुनौती होगी कि जो किशोर बच गए है उन्हें वैक्सीनेट कैसे किया जा सकते। अब तो स्कूल व कालेज खुलने के बाद ही इन किशोरों को वैक्सीनेट किया जा सकता है।

जिले में करीब 89 प्रतिशत लोगों ने वैक्सीन की पहली डोज लगवा ली है। वहीं 58 प्रतिशत लोगों ने दूसरी डोज लगवाई है। इसके अलावा बूस्टर डोज डोज लगवाने के लिए हेल्थ वर्करों व फ्रंट लाइन वर्करों को जागरूक किया जाएगा। एक साल तक हमारे सभी कर्मचारियों ने बेहतरीन काम किया है। इसके लिए सभी हेल्थ वर्करों को बधाई। यह अभियान आगामी दिनों में ऐसे ही चलता रहेगा।

वीरेश भूषण, सिविल सर्जन फतेहाबाद

Edited By: Jagran