जागरण संवाददाता, फरीदाबाद : प्रदूषण का स्तर बृहस्पतिवार को भी कम नहीं हो सका। दिनभर शहर से लेकर गांव तक स्मॉग की चादर में लिपटे नजर आए। पीएम 2.5 की औसत मात्रा 434 रही, पर सुबह 5 बजे से लेकर दोपहर 3 बजे तक यह स्तर 440 से अधिक था। जैसे-जैसे शाम हुई, स्तर थोड़ा कम होता चला गया। उधर तमाम पाबंदियों के बावजूद स्तर कम होने का नाम नहीं ले रहा है। नगर निगम व प्रदूषण नियंत्रण बोर्ड की टीमें लगातार निगरानी कर रही हैं। पीएम 2.5 की मात्रा

सुबह 5 बजे 448

सुबह 7 बजे 444

सुबह 9 बजे 441

सुबह 11 बजे 445

दोपहर 1 बजे 442

दोपहर 3 बजे 440

शाम 5 बजे 434 कूड़ा जलना नहीं हो रहा बंद

औद्योगिक नगरी में एक ओर प्रदूषण बढ़ रहा है तो दूसरी तरफ रात कूड़े जलने की सूचना व शिकायतें मिल रही हैं। प्रदूषण नियंत्रण बोर्ड व नगर निगम द्वारा लगातार चालान किए जा रहे हैं। बृहस्पतिवार को किसी ने मुजेसर औद्योगिक क्षेत्र में ईस्ट इंडिया कंपनी के पास कूड़े में आग दी थी। बता दें दिल्ली-एनसीआर में बढ़ते प्रदूषण के मद्देनजर 15 अक्टूबर से ग्रेडेड रिस्पांस एक्शन प्लान (ग्रेप) लागू हो गया है। जो 15 मार्च 2020 तक लागू रहेगा। इसे लेकर प्रदूषण नियंत्रण बोर्ड ने कई टीमों का गठन कर दिया है। एक टीम कूड़ा सहित बाहर किसी भी प्रकार से लगाई गई आग का निरीक्षण कर रही है तो दूसरी टीम फैक्ट्रियों में जाकर देख रही है कि कोई अवैध ईंधन का प्रयोग नहीं कर रहा है। प्रदूषण नियंत्रण बोर्ड के क्षेत्रीय अधिकारी जयभगवान शर्मा ने बताया कि उनकी टीमों को भी कूड़े में आग लगाने की शिकायतें मिल रही हैं। ऐसे लोगों के चालान किए जा रहे हैं। स्कूल खुले, पर बाद में कर दी गई छुट्टी

प्रदूषण को देखते हुए शिक्षा विभाग ने फिर से दो दिन स्कूलों की छुट्टी घोषित कर दी थी। यह आदेश देर रात को आए, इसके चलते कई स्कूल अभिभावकों तक संदेश नहीं पहुंचा पाए। ऐसे में एनआइटी पांच नंबर में एक संस्था का स्कूल और कुछ अन्य स्कूल खुले नजर आए, पर सुबह 9 बजे के बाद इन स्कूलों में भी छुट्टी कर दी गई।

Posted By: Jagran

अब खबरों के साथ पायें जॉब अलर्ट, जोक्स, शायरी, रेडियो और अन्य सर्विस, डाउनलोड करें जागरण एप