फरीदाबाद, जेएनएन। सावन के अंतिम सोमवार के दिन शहर के मंदिरों के प्रांगण हर-हर महादेव का जयघोष से गूंजते नजर आए। मंदिरों में खासी रौनक रही और श्रद्धालुओं में अपने ईष्ट देव भगवान भोलेनाथ को प्रसन्न रखने का उत्साह व उल्लास का भाव दिखा। श्रद्धालुओं ने पहले सोमवार से लेकर अंतिम सोमवार तक व्रत भी रखे थे, जो उन्होंने शिवलिंग पर जलाभिषेक करके और शिव परिवार की पूजा अर्चना करके और जरूरतमंदों को भोजन करके पूर्ण किए।

सोमवार को शहर के सभी प्रमुख मंदिरों के कपाट सुबह चार बजे से ही खुलने शुरू हो गए थे। एनआइटी, ओल्ड फरीदाबाद, पॉश सेक्टरों तथा बल्लभगढ़ के प्राचीन मंदिरों में श्रद्धालुओं ने शिवालयों में स्थापित शिव¨लग पर बेल पत्र, पुष्प तथा फल अर्पित कर शिव आराधना की। महापौर भी पहुंची जलाभिषेक करने एनआइटी के शिवालय मंदिर नंबर दो में और सैनिक कॉलोनी स्थित शिव मंदिर में खूब रौनक नजर आई।

यहां श्रद्धालुओं को जलाभिषेक करने के लिए लंबा इंतजार करना पड़ा। सुबह करीब 9.30 बजे शहर की महापौर सुमन बाला जलाभिषेक करनी पहुंची। सुमन बाला ने पहले सोमवार से लेकर अंत तक सभी व्रत रखे थे। इसके अलावा तिकोना पार्क श्री महारानी वैष्णव देवी मंदिर, श्री बांके बिहारी मंदिर नंबर पांच, सिद्धपीठ काली मंदिर, एनआइटी पांच नंबर तत्कालेश्वर शिव मंदिर, श्री राम मंदिर जवाहर कालोनी, सेक्टर-आठ नीलकंठ मंदिर, महादेव मंदिर, एक नंबर हनुमान मंदिर, बल्लभगढ़ स्थित सियाराम मंदिर, पंचमुखी महादेव मंदिर,  राव कॉलोनी के शिव हनुमान मंदिर में और कुमाऊं सांस्कृतिक मंडल में हर-हर महादेव के जयघोष से माहौल गुंजायमान होता रहा।

वैष्णो देवी मंदिर में प्रधान जगदीश भाटिया, श्रीराम मंदिर, जवाहर कालोनी में अध्यक्ष राम जुनेजा ने, सनातन धर्म मंदिर में महासचिव रामशरण तनेजा ने आए हुए श्रद्धालुओं का स्वागत किया।
 

अब खबरों के साथ पायें जॉब अलर्ट, जोक्स, शायरी, रेडियो और अन्य सर्विस, डाउनलोड करें जागरण एप

अब खबरों के साथ पायें जॉब अलर्ट, जोक्स, शायरी, रेडियो और अन्य सर्विस, डाउनलोड करें जागरण एप