फरीदाबाद, जेएनएन। हरियाणा कांग्रेस प्रदेश प्रवक्ता विकास चौधरी की हत्या के आरोपित गैंगस्टर कौशल को फरीदाबाद पुलिस ने अदालत से छह दिन की रिमांड पर लिया है। गैंगस्टर कौशल को हरियाणा एसटीएफ ने 26 अगस्त को आइजीआइ एयरपोर्ट दिल्ली से गिरफ्तार किया था। तभी से वह एसटीएफ की रिमांड पर था। सोमवार को उसकी रिमांड पूरी हुई तो फरीदाबाद पुलिस ने विकास चौधरी हत्याकांड में पूछताछ के लिए प्रोडक्शन वारंट पर लिया।

मामले की जांच में जुटे क्राइम ब्रांच डीएलएफ प्रभारी संजीव कुमार ने बताया कि रिमांड के दौरान विकास चौधरी हत्याकांड की कड़ियों को नए सिरे से जोड़ने का प्रयास किया जाएगा। मामले में अधिक से अधिक सबूत जुटाने की कोशिश होगी, ताकि अदालत में आरोपित को अधिकतम सजा सुनिश्चित हो सके। वहीं पुलिस गैंगस्टर
कौशल से उसके फरार चल रहे गुर्गों खेड़ी निवासी सचिन व अन्य के बारे में  भी जानकारी लेगी, ताकि उन्हें गिरफ्तार किया जा सके।

कांग्रेस नेता विकास चौधरी हत्याकांड मामले में कुख्यात गैंगस्टर कौशल को गुरुग्राम अदालत से प्रोडक्शन रिमांड पर फरीदाबाद पुलिस सोमवार को अपने साथ ले गई। पिछले सप्ताह आइजीआइ एयरपोर्ट से स्पेशल टास्क फोर्स की गुरुग्राम टीम कौशल को गिरफ्तार कर पूछताछ कर रही थी।

रिमांड की अवधि समाप्त होने के बाद उसे सोमवार को अदालत में पेश किया गया। उसी दौरान फरीदाबाद पुलिस ने प्रोडक्शन रिमांड के लिए अर्जी लगा दी।

आइजीआइ एयरपोर्ट से किया गया गिरफ्तार
बता दें कि हरियाणा के मोस्टवांटेड गैंगस्टर कौशल को स्पेशल टास्क फोर्स (एसटीएफ) ने अभी हाल में ही नई दिल्ली इंदिरा गांधी अंतरराष्ट्रीय (आइजीआइ) एयरपोर्ट से गिरफ्तार किया था। एसटीएफ ने मार्च 2017 में गुरुग्राम नाहरपुर रूपा गांव में जॉनी हंस की मां सुदेश की हत्या के मामले में गुरुग्राम अदालत से 2 सितंबर तक रिमांड पर लिया था। जॉनी हंस की मां की हत्या के बाद वह भागकर दुबई चला गया था। वहीं से बैठकर वह रंगदारी वसूली का अपना गिरोह संचालित कर रहा था।

विकास चौधरी की हत्या की साजिश रचने में गैंगस्टर कौशल का नाम आया था
सुदेश की हत्या के मुकदमे में 21 फरवरी 2019 को गुरुग्राम पुलिस ने कौशल के खिलाफ रेडकॉर्नर नोटिस जारी कराया। 27 जून 2019 को हरियाणा कांग्रेस के प्रदेश प्रवक्ता विकास चौधरी की गोलियों से भूनकर हत्या की साजिश रचने में गैंगस्टर कौशल का नाम आया था। पुलिस का दावा है कि यह हत्या एक करोड़ रुपये की रंगदारी ना देने पर की गई। पुलिस ने इस मामले में दो दिन बाद ही रोशनी और नरेश उर्फ चांद को गिरफ्तार कर लिया था। उन्होंने भी गैंगस्टर कौशल द्वारा हत्या कराए जाने की पूरी कहानी पुलिस को बताई थी। इसके बाद इस मामले में शूटरों को रहने का ठिकाना उपलब्ध कराने पर कई अन्य लोगों को भी गिरफ्तार किया गया था। 

कई कारोबारियों से मांगी रंगदारी 
विकास चौधरी की हत्या के बाद फरीदाबाद व गुरुग्राम में कई कारोबारियों से रंगदारी मांगी गई थी। इससे पुलिस की किरकिरी हो रही थी। इससे बचने के लिए एसटीएफ, गुरुग्राम व फरीदाबाद पुलिस कौशल की सरगर्मी से तलाश कर रही थी। गैंगस्टर कौशल पर हरियाणा के गुरुग्राम, फरीदाबाद व रेवाड़ी में हत्या, रंगदारी, लूट, हत्या का प्रयास सहित विभिन्न आरोपों में 150 से अधिक मुकदमे दर्ज हैं।  

ये भी पढ़ेंः Delhi assembly Election: पूर्व केंद्रीय मंत्री विजय गोयल का दावा- AAP के 14 विधायक भाजपा के संपर्क में

दिल्ली-NCR की ताजा खबरें पढ़ने के लिए यहां पर करें क्लिक

Posted By: Mangal Yadav

अब खबरों के साथ पायें जॉब अलर्ट, जोक्स, शायरी, रेडियो और अन्य सर्विस, डाउनलोड करें जागरण एप