गुरुग्राम (आदित्य राज)। पूरे हरियाणा ही नहीं बल्कि आसपास के राज्यों में हत्या, हत्या के प्रयास, लूट, रंगदारी, फिरौती आदि मामलों के लिए कुख्यात गैंगस्टर कौशल ने दुबई में अपना नाम तक बदल लिया था। उसने अपना नाम मोनू रख लिया था। वहां पर उसके जानने वाले उसे मोनू नाम से ही बुलाते थे। वहां वह कहीं नहीं जाता था, बल्कि 24 घंटे अपने कमरे में ही रहता था।

हर किसी के लिए अलग-अलग भाषा

सूत्र बताते हैं कि अब तक जितने भी गैंगस्टर हरियाणा में हुए उनमें कौशल सबसे चालाक है। किससे कैसी भाषा में बात करनी है, उसे पता है। रंगदारी मांगने के उसके अंदाज से ही अधिकतर कांप जाते थे। यही वजह है कि अधिकतर शिकार कारोबारी कभी भी शिकायत करने के लिए सामने नहीं आए। जिन लोगों ने शिकायत भी की उन्होंने सीधे तौर पर कौशल या उसके गैंग का नाम नहीं लिया।

बुकी के कारोबार में डाला असर

सबसे अधिक बुकी के कारोबार से जुड़े लोगों में उसके नाम की दहशत है। कुछ महीने पहले बुकी विजय बत्रा उर्फ तांत्रिक की हत्या करने का आरोप भी कौशल गैंग के ऊपर ही लगा। शिकायत के मुताबिक पैसे की मांग की गई थी। नहीं देने पर उसकी हत्या कर दी गई।

गिरफ्तारी की सूचना के बाद भी दहशत

सूत्र बताते हैं कि दुबई में कौशल की गिरफ्तारी की सूचना के बाद भी कारोबारियों में दहशत है। उन्हें लगता है कि भोंडसी जेल में रहने के बाद उसकी सीधी नजर उनके ऊपर होगी। गुर्गों का उसके संपर्क में रहना आसान होगा। बता दें कि भोंडसी जेल से गैंगस्टरों द्वारा रंगदारी मांगने की शिकायत कई बार सामने आ चुकी है। यही नहीं जेल में बंद गैंगस्टरों पर हत्या कराने की साजिश रचने के भी आरोप लग चुके हैं।

गैंग के सभी गुर्गों की तलाश तेज

सूत्र बताते हैं कि कौशल गैंग के बाकी गुर्गों की तलाश तेज कर दी गई है। बता दें कि पिछले कई महीनों से गैंग को खत्म करने के लिए गुरुग्राम पुलिस ने ऑपरेशन क्लीनअप चला रखा है। इसके तहत दस से अधिक बदमाश, जिनमें कई कुख्यात शूटर हैं, गिरफ्तार किए जा चुके हैं। बताया जाता है कि गैंग में 50 से अधिक गुर्गे हैं। इनमें से अधिकतर इतने शातिर हैं कि चलते-चलते वारदात को अंजाम दे देते हैं। कौशल गैंग के साथ ही कुख्यात गैंगस्टर सूबे गुर्जर व उसके गैंग को खत्म करने के लिए भी गुरुग्राम पुलिस प्रयासरत है। इसके गैंग के भी कई गुर्गे पकड़े जा चुके हैं। सूबे गुर्जर की संपत्ति अदालत से गुरुग्राम पुलिस अटैच करा चुकी है। इसके बाद भी वह पकड़ से बाहर है।

दिल्‍ली-एनसीआर की खबरों को पढ़ने के लिए यहां करें क्‍लिक

Posted By: Prateek Kumar

अब खबरों के साथ पायें जॉब अलर्ट, जोक्स, शायरी, रेडियो और अन्य सर्विस, डाउनलोड करें जागरण एप