फरीदाबाद [सुशील भाटिया]। दिल्ली से सटे फरीदाबाद में भी गर्मी से लोग बेहाल हैं। यहां पर तो सोमवार को गर्मी ने पिछले साल का रिकॉर्ड ही तोड़ दिया। मौसम विभाग के अनुसार, सोमवार को फरीदाबाद शहर का अधिकतम तापमान 45 डिग्री सेल्सियस दर्ज किया गया। जबकि न्यूनतम 31 डिग्री रहा।

पिछले साल 25 मई 2019 को फरीदाबाद का अधिकतम तापमान 38 डिग्री सेल्सियस था जबकि न्यूनतम तापमान 24 डिग्री सेल्सियस दर्ज किया गया था। इस हिसाब से सोमवार का दिन साल का सबसे गर्म दिन रहा।

तीन दिन से लोग अधिक परेशान

फरीदाबाद में पिछले तीन दिनों से लू के थपेड़ों ने जन-जीवन प्रभावित कर दिया है। शनिवार को तापमान 44 डिग्री सेल्सियस दर्ज किया गया था, वहीं रविवार को तापमान 45 डिग्री सेल्सियस पहुंचा, जबकि न्यूनतम तापमान 30 डिग्री सेल्सियस रिकार्ड किया गया। पिछले वर्ष इसी दिन यानी 24 मई को अधिकतम तापमान 34 डिग्री सेल्सियस रिकार्ड किया गया अर्थात गत वर्ष की अपेक्षा इस बार 11 डिग्री सेल्सियस तापमान अभी से ज्यादा दर्ज हुआ।

नौतपा शुरू होने बढ़ी गर्मी

मौसम विभाग के अनुसार 25 मई यानी सोमवार से नौतपा शुरू हो गया है। यानी नौ दिनों तक जबरदस्त गर्मी रहेगी। इन नौ दिनों में सूर्य पृथ्वी के सबसे करीब होता है। इस वजह से गर्मी बढ़ती है। रविवार को दोपहर के समय तो सड़कें पूरी तरह से सुनसान दिखाई दी। जो लोग मजबूरीवश किसी काम से बाहर नजर भी आ रहे थे, वह सिर व चेहरे को स्वाफी, चुन्नी से ढके हुए था। महिलाओं ने सिर पर छाता किया हुआ था। राहत की बात यह थी कि रविवार की छुट्टी थी और इस कारण अधिकतर लोगों ने घरों में ही रहना उचित समझा। कई लोग घर पर एसी व कूलर की मरम्मत कराते नजर आए।

खूब पीओ नींबू पानी

गर्मी में लोगों को सबसे ज्यादा पसंद आने वाला पेय पदार्थ है शिकंजी यानी नींबू-पानी, जिसको पीने के बाद हर कोई तरोताजा और गर्मी से मुक्त महसूस करता है। शहरों में हर चौक-चौराहों पर, प्रमुख मार्गों पर शिकंजी की रेहड़ी नजर आ जाएंगी, पर इन दिनों कोरोना के चलते बाहर रेहड़ियों की शिकंजी पीना खतरनाक हो सकता है। इसलिए इससे बचें। इसे घर पर भी ही तैयार कर सकते हैं। सादे पानी में चीनी घोल कर, थोड़ा काला नमक डाल कर, थोड़ी बर्फ डालो और फिर नींबू निचोड़ कर शिकंजी तैयार। शरीर में पानी की कमी भी पूरी करने का उत्तम उपाय। इसे पीने पर आप अपने आपको तरोताजा भी महसूस करते हैं।

गर्मी में क्या करें बच्चे

बाल रोग विशेषज्ञ डॉ. विकास गोयल ने बताया कि बुजुर्गों व बच्चों में रोग प्रतिरोधक क्षमता कम होती है। इसीलिए उन्हें बाहर न निकलने दें। बाहर निकले लोग सिर पर सीधी धूप पड़ने से बचाव करें ओर कपड़े से जरूर ढकें। बार-बार पसीना आने से शरीर में पानी की कमी हो जाती है, इससे डी-हाईड्रेशन होता है। इससे बचने के लिए नियमित अंतराल में पानी पीते रहें। नींबू, नमक और चीनी का घोल जरूर पीएं। हल्का-फुल्का जल्दी पचने वाला ताजा भोजन खाएं, तली हुई चीजों से परहेज करें।

ये भी पढ़ेंः Gurugram Weather News: नौतपा शुरू होते ही आसमान से बरस रही आग, तापमान पहुंचा 46 डिग्री के पार

Posted By: Mangal Yadav

डाउनलोड करें जागरण एप और न्यूज़ जगत की सभी खबरों के साथ पायें जॉब अलर्ट, जोक्स, शायरी, रेडियो और अन्य सर्विस