फरीदाबाद [ हरेंद्र नागर]। हर अपराधी यह सोचकर अपराध के रास्ते पर कदम बढ़ाता है कि एक बार वारदात करेगा, किसी को पता नहीं चलेगा और चुपचाप निकल जाएगा। मगर यह रास्ता इतना दलदल भरा है, एक बार जो इस पर चलता है, फंसता ही चला जाता है। पुलिस की मानें तो जिम ट्रेनर मुकेश के साथ भी कुछ ऐसा ही हुआ। उसकी योजना थी कि घर में अकेले दंपती को चाकू से डराकर लूट लेगा। इससे उसका कर्ज चुक जाएगा और कोई उसे पकड़ भी नहीं पाएगा। मगर हुआ इसका उल्टा।

एसीपी क्राइम अनिल कुमार ने बताया कि मुकेश रात करीब 10.30 बजे दंपती के घर में घुसा। घर के बेसमेंट में जांच लैब चलाने वाले रेडियोलॉजिस्ट प्रवीन मेहंदीरत्ता को अपना नाम राहुल बताया और सीने का एक्स-रे कराने की बात कही। उसने एक्स-रे की फीस पांच सौ रुपये भी प्रवीन मेहंदीरत्ता को दिए। प्रवीन उसे नीचे बेसमेंट में लेकर गए। एक्स-रे मशीन चालू की। तभी मुकेश ने जिम बैग में रखा मीट काटने वाला चाकू निकालकर प्रवीन मेहंदीरत्ता पर तान दिया। उनसे अलमारियों की चाबी, रुपये व आभूषण के बारे में पूछा।

प्रवीन मेहंदीरत्ता ने शोर मचा दिया। पकड़े जाने के डर से मुकेश ने उनके पेट में चाकू घोंप दिया। इसके बाद पेट व गर्दन पर और भी वार कर उन्हें मौत की नींद सुला दिया। फिर वह ऊपर आया। पहले वह दर्पण के कमरे में गया। वहां अलमारियों को खंगालने के बाद वह प्रवीन मेहंदीरत्ता की पत्नी सुदेश उर्फ भारती के कमरे में घुस गया। उसे अलमारी खुली मिली। उसने अलमारी से दो बैग निकाले और उनमें से कुछ आभूषण निकालकर जेब में रख लिए। तभी भारती की आंख खुल गईं। उन्होंने शोर मचा दिया। मुकेश ने उन पर भी चाकू से हमला कर हत्या कर दी। इसके बाद वह अलमारियों की तलाशी ले ही रहा था कि मुख्य दरवाजे से दंपती की बेटी प्रियंका और दामाद सौरभ कटारिया निवासी इंदिरापुरम, मूल निवासी मेरठ अंदर आए।

इत्तेफाक से मुख्य दरवाजा खुला था, जिसकी मुकेश को जानकारी नहीं थी। उन्हें देखकर मुकेश बुरी तरह घबरा गया। उसने पहले सौरभ कटारिया के पेट में चाकू घोंप दिया। इसके बाद प्रियंका पर भी हमला किया। दोनों से उसकी छीना-झपटी भी हुई। इसमें मुकेश के हाथ में भी चाकू लगा। एक बार सौरभ कटारिया ने उससे चाकू भी छीन लिया। मगर पेट में चाकू के घाव के कारण सौरभ निढाल हो गया और मुकेश ने उससे चाकू वापस छीन लिया। इसके बाद प्रियंका और सौरभ पर ताबड़तोड़ वार कर उन्हें धराशाही कर दिया। वह प्रियंका के कानों में पहने कुंडल व सौरभ की जेब से करीब 15 सौ रुपये भी निकालकर ले गया।

 भागते वक्त सौरभ कटारिया से बात कीं, उसे पानी भी पिलाया


मुकेश ने पुलिस को बताया है कि जब वह घर से निकला, तब सौरभ कटारिया की सांसें चल रही थीं। सौरभ ने उससे पूछा था कि उसने यह क्यों किया। जिसके जवाब में मुकेश ने लूट की बात कही। सौरभ ने उससे पानी मांगा तो फ्रिज से बोतल निकालकर उसे पानी भी पिलाया। जाते हुए वह दोनों के मोबाइल भी लेकर गया। जो उसने रास्ते में फेंक दिए।

 पुलिस को बताई थीं चार कहानी

इस मामले की जांच में जुटे पुलिस अधिकारियों ने बताया है कि आरोपित शुरू से ही पुलिस को बरगलाने की कोशिश कर रहा था। उसने पुलिस को चकमा देने के लिए उसने अलग-अलग चार कहानियां बताई थीं। जब पुलिस ने उसकी कहानियों को वैरिफाई किया तो वे झूठी मिलीं। पुलिस द्वारा सख्ती से पूछताछ के बाद ही उसने सच्चाई उगली।

 दिल्ली-एनसीआर की ताजा खबरें पढ़ने के लिए यहां पर करें क्लिक 

 

इंडियन टी20 लीग

डाउनलोड करें जागरण एप और न्यूज़ जगत की सभी खबरों के साथ पायें जॉब अलर्ट, जोक्स, शायरी, रेडियो और अन्य सर्विस