जागरण संवाददाता, फरीदाबाद : नागरिक अस्पताल सहित जिले के स्वास्थ्य केंद्रों पर इलाज के लिए आने वाले मरीजों को आज परेशानियों का सामना करना पड़ सकता है। चिकित्सक एवं अन्य स्वास्थ्यकर्मी सेवा नियम संशोधन, सेवा सुरक्षा नियम सहित वेतन विसंगतियों को लेकर एनएचएम (नेशनल हेल्थ मिशन) के कर्मचारी सोमवार को करनाल में मुख्यमंत्री आवास का घेराव करने जाएंगे। इसके चलते 650 चिकित्सक एवं कर्मचारियों ने सामूहिक अवकाश लिया है। स्वास्थ्य कर्मियों की गैरमौजूदगी में नागरिक अस्पताल के प्रसूति वार्ड, टीका सेंटर, इमरजेंसी, ओपीडी, सामान्य वार्ड, बर्न वार्ड, एंबुलेंस सेवा, नीकू(नियोनटल इंटेंसिव केयर यूनिट) सहित विभिन्न सेवाएं बाधित हो सकती हैं। हालांकि स्वास्थ्य विभाग के अधिकारियों का दावा है कि इस समस्या से निपटने के लिए वैकल्पिक तैयार की गई हैं। गर्भवती महिलाओं को होना पड़ेगा परेशान

हर महीने की नौ तारीख को प्रधानमंत्री सुरक्षित मातृत्व योजना के तहत महिलाओं के लिए स्पेशल ओपीडी चलाई जाती है। इसमें महिलाओं की अल्ट्रासाउंड से लेकर विभिन्न जांचे की जाती हैं। चिकित्सकों एवं स्वास्थ्य कर्मियों के नहीं होने से महिलाओं को अधिक परेशानी होगी। स्थायी कर्मचारियों की छुट्टी हुई रद

स्वास्थ्य विभाग के अधिकारियों के अनुसार एनएचएम कर्मचारियों की सामूहिक एक दिन अवकाश की घोषणा को देखते हुए सभी स्थायी एवं डॉक्टर, नर्स व अन्य कर्मचारियों की छुट्टी रद कर दी गई है। यदि कर्मचारी इसमें लापरवाही बरतेंगे, तो उनके खिलाफ कार्रवाई होगी। एनएचएम कर्मचारियों के छुट्टी पर जाने से स्वास्थ्य सेवाओं पर कोई असर नहीं पड़ेगा। सारी वैकल्पिक व्यवस्था है। मरीजों को कोई परेशानी नहीं होगी।

-डॉ. रमेश, उपमुख्य चिकित्सा अधिकारी सभी कर्मचारी नागरिक अस्पताल में एकत्र होकर करनाल पहुंचेंगे। वहां मुख्यमंत्री के आवास का घेराव किया जाएगा। वहां से वापस लौटते समय सीएमओ से डीए भत्ता देने की मांग की जाएगी। यदि सरकार बात नहीं मानती है, तो दस सितंबर से सभी कर्मचारी हड़ताल पर चले जाएंगे।

-धरवेंद्र, जिला प्रधान एनएचएम कर्मचारी संघ हरियाणा

Posted By: Jagran

डाउनलोड करें जागरण एप और न्यूज़ जगत की सभी खबरों के साथ पायें जॉब अलर्ट, जोक्स, शायरी, रेडियो और अन्य सर्विस