जागरण संवाददाता, फरीदाबाद : संजय कॉलोनी क्षेत्र में दुष्कर्म पीड़ित 13 वर्षीय किशोरी के बच्ची को जन्म देने के मामले में चौंकाने वाले तथ्य सामने आए हैं। पुलिस को पता चला है कि किशोरी की मां को दो महीने पहले उसके गर्भवती होने का पता चल गया था। उसने चाय का खोखा लगाने वाली अपनी जानकार एक मां-बेटी को इसकी जानकारी दी। उन्होंने पलवल निवासी एक महिला से किशोरी की मां का संपर्क कराया। उस महिला की तीन बेटियां हैं। ऐसे में बेटा होने की सूरत में वह उसे गोद लेने को तैयार हो गई।

वहीं, बेटी होने पर किसी अन्य को गोद दिलाने की बात कही। इस कारण किशोरी की मां ने उसके गर्भवती होने की बात छिपाई। पुलिस ने चाय का खोखा चलाने वाली मां-बेटी सहित पलवल निवासी महिला के खिलाफ अपराध छिपाने की धाराओं के तहत मुकदमा दर्ज कर गिरफ्तार कर लिया है। अदालत में पेश कर उन्हें जेल भेज दिया है। पुलिस एनआइटी क्षेत्र में एक नर्सिंग होम के खिलाफ भी कार्रवाई करने की तैयारी कर रही है। लड़की की मां ने बताया है कि नर्सिंग होम संचालिका डॉक्टर किशोरी का प्रसव कराने के लिए तैयार हो गई थी, मगर ऐन समय पर किशोरी की तबीयत खराब हो गई और उसे बीके अस्पताल में भर्ती कराना पड़ा। पुलिस फिलहाल उस डॉक्टर से पूछताछ कर रही है। बता दें कि रविवार को संजय कॉलोनी क्षेत्र निवासी एक किशोरी ने बीके अस्पताल में बच्ची को जन्म दिया था। किशोरी ने पूछताछ में बताया कि पड़ोस में रहने वाला शंकर नाम का युवक उसके साथ दुष्कर्म करता था। पुलिस ने रविवार को ही संजय को गिरफ्तार कर लिया था। उसे भी जेल भेज दिया गया है। मुजेसर थाना प्रभारी दिनेश कुमार ने बताया कि इस मामले में गोद लेने की एवज में अभी रुपयों के लेन-देन की बात सामने नहीं आई है।

Posted By: Jagran

अब खबरों के साथ पायें जॉब अलर्ट, जोक्स, शायरी, रेडियो और अन्य सर्विस, डाउनलोड करें जागरण एप