जासं, फरीदाबाद : सरकारी जमीन पर पौधारोपण से पहले अधिकारियों की स्वीकृति जरूरी होती है, लेकिन बाईपास रोड के मध्य स्थित डिवाइडर पर इन दिनों सैकड़ों नीम के पौधे लगाए जा रहे हैं। साथ ही लोहे की जाली भी लगाई जा रही है, ताकि बेसहारा पशु इन्हें नष्ट न कर सकें। आश्चर्य ये कि 26 किलोमीटर लंबी बाईपास पर सैकड़ों पौधे लगाने वाली निजी कंपनी ने इसके लिए हुडा अधिकारियों से स्वीकृति तक नहीं ली है।

इतना ही नहीं, सेक्टर-12 के चारों ओर सड़क के डिवाइडर पर भी इसी कंपनी द्वारा नीम के पौधे रोपे जा रहे हैं। हुडा अधिकारी भी इतने बड़े पौधारोपण अभियान से अनभिज्ञ हैं। हुडा की बागवानी शाखा के कार्यकारी अभियंता जोगिराम को यह तो पता है कि पौधारोपण हो रहा है, लेकिन यह नहीं पता कि कौन कर रहा है। साथ ही डिवीजन दो के कार्यकारी अभियंता पवन कुमार को इसकी जानकारी ही नहीं है। बाईपास रोड डिवीजन दो के अंतर्गत ही आती है। निजी कंपनी ने प्रत्येक लोहे की जाली पर अपना पूरा पता भी लिखा हुआ है। वर्जन..

हां, हमें यह तो पता है कि नीम के पौधे रोपे जा रहे हैं, लेकिन इस बाबत विभाग से स्वीकृति नहीं ली गई है। हमें यह भी नहीं पता कि यह पौधे कौन रोप रहे हैं। इस बारे में जल्द पता किया जाएगा।

-जोगिराम, कार्यकारी अभियंता, हुडा बागवानी।

इंडियन टी20 लीग

डाउनलोड करें जागरण एप और न्यूज़ जगत की सभी खबरों के साथ पायें जॉब अलर्ट, जोक्स, शायरी, रेडियो और अन्य सर्विस