सुभाष डागर, बल्लभगढ़ : पृथला क्षेत्र के गांवों की सेम की समस्या दूर करने की बाधाएं खत्म हो गई हैं। सरकार ने गौंछी ड्रेन को चौड़ा और साफ करने के लिए 5 करोड़ रुपये मंजूर किए हैं। काम शुरू करने के लिए टेंडर भी लगाए जा चुके हैं और जल्द ही काम शुरू करा दिया जाएगा। पृथला विधानसभा क्षेत्र के गांव कबूलपुर बांगर, सिकरौना, समयपुर, भनकपुर, खंदावली, बिजोपुर, जखोपुर, नंगला जोगियान आदि गांवों की कृषि योग्य जमीन में तीन फुट नीचे पत्थर की परत है। पत्थर की परत होने के कारण बरसाती पानी जमीन के नीचे नहीं जाता है। जिससे पानी खेतों में भरा रहता है। यहां पर भूजल स्तर काफी ऊपर है, जो खारा है। इन गांवों के किसान अपने खेतों की ¨सचाई के लिए नहर और रजवाहों पर निर्भर है।

पृथला के विधायक टेकचंद शर्मा ने क्षेत्र की समस्या को पिछले वर्ष बजट सत्र के दौरान उठाया था। तब ही सरकार ने सेम की समस्या को दूर करने का आश्वासन दिया था। सरकार ने यहां पर कृषि विभाग के वैज्ञानिकों की टीम को भेजकर दौरा कराया था। कृषि एवं किसान कल्याण विभाग के अधिकारियों ने कहा है कि यहां पर ट्यूबवेल लगाए जाएंगे, जो भूजल स्तर और बरसाती पानी को गौंछी ड्रेन में डालेंगे। सरकार ने गौंछी ड्रेन को साफ और चौड़ा करने के लिए पांच करोड़ रुपये मंजूर कर दिए हैं। टेंडर भी हो चुके हैं। गौंछी ड्रेन ज्यादातर पलवल जिले में पड़ता है, इसलिए ये काम पलवल के कार्यकारी अभियंता की देखरेख में होगा।

-वीएस रावत, कार्यकारी अभियंता, ¨सचाई विभाग फरीदाबाद सेम की समस्या को दूर करने के लिए 12 ट्यूबवेल सौर ऊर्जा के लगाए जाएंगे। ट्यूबवेल कृषि विभाग लगा रहा है। अभी तक दो ट्यूबवेल गांव सिकरौना में लगाए जा चुके हैं। यहां पर 200 हेक्टेयर भूमि को कृषि योग्य बनाने के लिए फिलहाल कृषि विभाग ने लिया है।

-टेकचंद शर्मा, विधायक, पृथला

Posted By: Jagran

अब खबरों के साथ पायें जॉब अलर्ट, जोक्स, शायरी, रेडियो और अन्य सर्विस, डाउनलोड करें जागरण एप