जागरण संवाददाता, बल्लभगढ़: गांव जाजरू और मलेरना के ग्रामीणों के लिए अच्छी खबर है। रेलवे ट्रैक पर अंडरपास बनने से दोनों गांव के बीच मार्ग बंद हो गया था। अब अंडरपास के बराबर में किसान से जमीन लेकर रास्ता बनाया जाएगा। किसान को उसकी जमीन के बदले पंचायती जमीन में से दी जाएगी।

गांव जाजरू के रेलवे ट्रैक पर लोगों के आवागमन को सुगम बनाने के लिए अंडरपास बनाया गया है। रेलवे फाटक से सीधे गांव मलेरना के लिए एक रास्ता जाता है। फाटक होने के कारण ट्रैक के पास ही खेतों के लिए ट्रैक्टर और ट्राली को लेकर किसान अपने खेतों पर चले जाते थे। अब अंडरपास बन गया है, इसलिए दिक्कत हो रही है। अंडरपास से वापस मलेरना के रास्ते पर जाने के लिए ट्रैक की तरफ लौटना पड़ता है। अंडरपास के दोनों तरफ साइडों में किसानों के खेत हैं। वे अपने खेत में से दूसरे किसानों के वाहन लेकर नहीं निकलने देते। ग्रामीण चाहते हैं, मलेरना के रास्ते पर आने-जाने के लिए खेत मालिकों से जमीन लेकर पंचायत रास्ता बनाए। पंचायत अपनी जमीन में से खेत मालिकों को दूसरी जगह पर जमीन दे दे। खेत मालिक बदले में पंचायत से जमीन लेने के लिए तैयार हैं। चार महीने पहले गांव जाजरू के किसानों ने जननायक जनता पार्टी के जिला शहरी अध्यक्ष अरविद भारद्वाज के साथ उपमुख्यमंत्री दुष्यंत चौटाला को एक ज्ञापन भी सौंपा था। पंचायत विभाग उपमुख्यमंत्री चौटाला के पास है। उपमुख्यमंत्री चौटाला ने अधिकारियों को इस मामले में रिपोर्ट पेश करने के लिए तलब किया। अब उन्हें उपायुक्त और जिला राजस्व अधिकारी बिजेंद्र राणा अपनी रिपोर्ट सौंप चुके हैं।

---

उपमुख्यमंत्री को अपनी रिपोर्ट में बता दिया है कि यहां पर खेत मालिक की जमीन से पंचायत अपनी जमीन का तबादला करके रास्ता बना सकती है। पंचायत विभाग के अधिकारियों को जमीन बदलने प्रक्रिया पूरी करने जल्दी ही आदेश मिल जाएंगे। किसान और पंचायत विभाग के बीच जमीन का तबादला हो जाएगा और यहां पर रास्ता बनाया जाएगा।

-बिजेंद्र राणा, जिला राजस्व अधिकारी फरीदाबाद।

Edited By: Jagran