जागरण संवाददाता, बल्लभगढ़ : फिल्म पानीपत में निर्माता निर्देशक आशुतोष गोवारिकर द्वारा भरतपुर के महाराजा सूरजमल का गलत चरित्र चित्रण के आरोप को लेकर जाट समाज के लोगों ने बल्लभगढ़ में सड़कों पर पैदल चल कर प्रदर्शन किया। निर्माता के खिलाफ जमकर नारेबाजी और आकाश सिनेमा पर लगे हुए पोस्टर भी फाड़े। पंचायत भवन पर निर्माता-निर्देशक का पुतला फूंका और राज्यपाल के नाम एसडीएम त्रिलोक चंद को ज्ञापन सौंपा। ज्ञापन के माध्यम से फिल्म पर प्रतिबंध लगाने की मांग की।

जाट समाज के लोग मंगलवार सुबह से शहीद राजा नाहर सिंह पार्क में एकत्रित हुए और फिर कुछ देर बाद राजा नाहर सिंह पार्क से राजीव गांधी मार्ग, अंबेडकर चौक, मोहना मार्ग से होते हुए आकाश सिनेमा पर पहुंचे। यहां पर फिल्म के पोस्टर फाड़े। सहायक पुलिस आयुक्त जयवीर राठी, थाना आदर्श नगर प्रभारी संदीप मौजूद होने के कारण प्रदर्शनकारी सिनेमा घर के अंदर नहीं घुस सके। यहां से फिर वापस अंबेडकर चौक, तिगांव मार्ग, पथवारी मंदिर मार्ग से पैदल चलते हुए पंचायत भवन पहुंचे।

प्रदर्शनकारियों में प्रमुख रूप से जिला परिषद के सदस्य और जाट महासभा के युवा जिला अध्यक्ष अवतार सिंह सारंग, राष्ट्रीय जाट एकता मंच के युवा प्रदेश अध्यक्ष बीरपाल धारीवाल, शहीद राजा नाहर सिंह अभियान के अध्यक्ष नरवीर तेवतिया, सेवानिवृत्त एसडीओ राजकुमार, सुखवीर रावत, मास्टर अमीचंद पीटीआइ, बबलू हुड्डा, शमशेर सिंह तेवतिया प्रमुख रूप से मौजूद थे। फरीदाबाद जाट समाज की हुई बैठक

पानीपत फिल्म के विरोध में जाट समाज फरीदाबाद कार्यकारिणी की बैठक जाट भवन में हुई, जिसकी अध्यक्षता समाज के अध्यक्ष व सेवानिवृत्त आइएएस जयपाल सिंह सांगवान ने की। बैठक में पानीपत फिल्म में महाराजा सूरजमल का गलत चित्रण दिखाने पर नाराजगी जताई और प्रस्ताव पारित किया गया कि निर्माता आशुतोष गोवारिकर व उनकी फिल्म पर प्रदेश सरकार व सेंसर बोर्ड से प्रतिबंध लगाने की मांग की। बैठक में आरएस दहिया, एचएस मलिक, टी.एस दलाल, रमेश चौधरी, शिवराम तेवतिया, सबरजीत फौजदार, बलजीत सिंह, जितेंद्र, योगेंद्र देशवाल, कमल चौधरी, सुरेश कुमार मौजूद थे।

Posted By: Jagran

डाउनलोड करें जागरण एप और न्यूज़ जगत की सभी खबरों के साथ पायें जॉब अलर्ट, जोक्स, शायरी, रेडियो और अन्य सर्विस