फील गुड:

-53 करोड़ की लागत से रेनीवेल और ट्यूबवेल लगाने का चल रहा काम

फोटो 5एफआरडी 6 में है।

कैप्शन-पीसी मीणा

जागरण संवाददाता, फरीदाबाद :

ग्रेटर फरीदाबाद के लोगों के लिए खुशखबरी है। साल 2015 के अंत तक यहां के लोगों को पानी मिलने लगेगा। हरियाणा शहरी विकास प्राधिकरण (हुडा) ने साल के अंत तक पानी मुहैया कराने की तैयारियां तेज कर दी है। हुडा गांव चीरसी-मंझावली के पास लगाए जा रहे रेनीवेल व ट्यूबवेल के माध्यम से लोगों की प्यास बुझाएगा।

हुडा नहर पार सेक्टर-75 से 89 तक 15 नए सेक्टर विकसित कर रहा है। कालोनाइजरों ने भी कालोनी व फ्लैट तैयार किए हैं। फिलहाल फ्लैटों में अभी 40 फीसद लोगों ने रहना शुरू किया है। कालोनाइजरों ने फ्लैटों में अपने स्तर पर पानी देने की व्यवस्था की हुई है। हुडा के सेक्टरों के अलावा फ्लैटों में आने वाले समय में लाखों की आबादी रहेगी। ऐसे में पानी की समस्या खड़ी ना हो, इसलिए हुडा ने नहर पार यमुना किनारे रेनीवेल और मास्टर रोड के साथ-साथ ट्यूबवेल लगाने के लिए 53 करोड़ रुपये की परियोजना तैयार की थी। यमुना किनारे गांव चीरसी, मंझावली और कबूलपुर के पास छह रेनीवेल लगाए जा रहे हैं, जबकि मास्टर रोड के साथ 15 ट्यूबवेल लगाने का काम चल रहा है। पिछले दिनों बारिश के कारण काम प्रभावित हुआ था, लेकिन हुडा ने अब काम फिर से तेजी से शुरू कर दिया है। रेनीवेल लगने से हर रोज 12 मिलियन गैलन पानी तथा ट्यूबवेलों से प्रति दिन दो मिलियन गैलन पानी की आपूर्ति होगी। पानी आपूर्ति के लिए पाइप लाइन डालने का काम भी चल रहा है।

------

हर रोज मिलेगा 20 मिलियन गैलन पानी

हुडा ने गांव ददसिया में चार रेनीवेल और 37 ट्यूबवेल लगाए हुए हैं, जिनसे हुडा के सेक्टरों के अलावा एनआइटी की कुछ कालोनियों में रेनीवेल का पानी पहुंचाया जा रहा है। सर्दी के कारण हर रोज शहर में 15 मिलियन गैलन पानी की आपूर्ति की जाती है, लेकिन गर्मियों में पानी की मांग बढ़ने के चलते हुडा ने उक्त क्षेत्र में 20 मिलियन गैलन पानी पहुंचाने की तैयारियों में लगा है।

-------

हमारा प्रयास है कि साल के अंत तक पानी परियोजना का काम पूरा हो जाए, इसलिए काम तेजी से किया जा रहा है। कई बार बारिश से काम की गति धीमी हो जाती है। इस परियोजना के पूरे होने से पानी की सप्लाई में कमी नहीं आएगी, जिससे की लोगों को भरपूर पानी मिलेगा।

पीसी मीणा,हुडा प्रशासक।

अब खबरों के साथ पायें जॉब अलर्ट, जोक्स, शायरी, रेडियो और अन्य सर्विस, डाउनलोड करें जागरण एप